बिहार: 40 लाख लोगों ने शौचालय निर्माण के लिए फर्जी तरीके से धन का दावा किया

Toilet
Google Creative Commons.
श्रवण ने कहा कि राज्य सरकार के ‘‘शौचालय निर्माण, घर का सम्मान’’ संकल्प को पूरा करने के लिए ग्रामीण विकास विभाग द्वारा राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में एलएसबीए के तहत योजनाओं को लागू किया जा रहा है।

पटना| बिहार के ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने बुधवार को विधानसभा को बताया कि लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान (एलएसबीए) योजना के तहत राज्य के ग्रामीण इलाकों के करीब 40 लाख लोग शौचालय निर्माण के लिए 12 हजार रुपये दोबारा पाने के लिए फर्जी दावे कर रहे थे। प्रश्नकाल के दौरान पूरक के जवाब में मंत्री ने कहा, ‘‘विभाग के अधिकारी एलएसबीए योजना के तहत राज्य में ग्रामीण क्षेत्रों में शौचालय निर्माण के लिए 12000 रुपये देने के लिए दस्तावेजों की जांच कर रहे थे।

उन्होंने बताया कि तब यह पाया गया कि लगभग 40 लाख लोगों ने दोबारा राशि पाने के लिए धोखाधड़ी करके आवेदन किया था। उनके आवेदन खारिज कर दिए गए और सरकार अब उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू करने पर विचार कर रही है।

उन्होंने कहा कि ग्रामीण विकास विभाग ने अब तक ग्रामीण क्षेत्रों में एलएसबीए के तहत शौचालय निर्माण के लिए लगभग 85 लाख लोगों को राशि जारी की है। लगभग 37 लाख लोगों को शौचालय निर्माण के लिए कुछ अन्य विभागों द्वारा भी धन जारी किया गया था।

श्रवण ने कहा कि राज्य सरकार के ‘‘शौचालय निर्माण, घर का सम्मान’’ संकल्प को पूरा करने के लिए ग्रामीण विकास विभाग द्वारा राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में एलएसबीए के तहत योजनाओं को लागू किया जा रहा है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़