सपने होते हैं सच! केरल के मंदिर देवता को भेंट की गई मुस्लिम महिला की नन्ही कृष्णा पेंटिंग

सपने होते हैं सच! केरल के मंदिर देवता को भेंट की गई मुस्लिम महिला की नन्ही कृष्णा पेंटिंग
प्रतिरूप फोटो

अग्रेंजी अखबार TOI में छपी एक खबर के मुताबिक, जाना सलीम ने पिछले 6 सालों में नन्हे कृष्ण की 500 से अधिक पेंटिंग की है लेकिन उन्हें अपने किसी भी काम को मंदिर के अंदर पेश करने का मौका नहीं मिला। लेकिन जाना का सपना अखिरकार पूरा हो ही गया है।

केरल के कोझीकोड में एक मुस्लिम महिला ने भगवान कृष्ण की पोंटिग बनाई है जिसकी अब देशभर में काफी चर्चा हुई है। जाना सलीम की कृष्ण पेंटिग ने कई लोगों का ध्यान आकर्षित किया है। अग्रेंजी अखबार TOI में छपी एक खबर के मुताबिक, जाना सलीम ने पिछले 6 सालों में नन्हे कृष्ण की 500 से अधिक पेंटिंग की है लेकिन उन्हें अपने किसी भी काम को मंदिर के अंदर पेश करने का मौका नहीं मिला। लेकिन जाना का सपना अखिरकार पूरा हो ही गया है। बता दें कि रविवार को, पथनमथिट्टा जिले के पंडालम के पास एक गांव उलांडु में श्री कृष्ण स्वामी मंदिर में एक देवता के सामने भगवान कृष्ण की पेंटिंग को औपचारिक रूप से पेश करने मौका मिल रहा है। 

मंदिर में पेश होने से पहले ही वायरल हुई पेंटिग

पेंटिंग, जिसमें छोटे कृष्ण को मक्खन के बर्तन के साथ बैठे दिखाया गया है, मंदिर में पेश करने से पहले ही वायरल हो गया है। जसना ने कहा कि हिंदू मंदिर द्वारा उनकी पेंटिंग को औपचारिक रूप से स्वीकार करना एक सपने के सच होने जैसा है। हालाँकि उसने पहले राज्य के दो अन्य मंदिरों को अपना काम उपहार में दिया था, लेकिन यह पहली बार था कि उसका काम देवता के सामने प्रस्तुत किया गया।जसना ने कहा कि वह सुबह की नमाज अदा करने के बाद मंदिर गई थी। 

दो बच्चों की मां जाना सलीम का सपना हुआ पूरा

मंदिर को उपहार देने से पहले, उसने अपने भगवान कृष्ण की एक पेंटिंग अपने पड़ोस में एक हिंदू परिवार को दी थी। उन्होंने कलाकृति को अपने पूजा कक्ष में रखा है। अपने पेंटिंग शौक के बारे में टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए, 28 वर्षीय ने कहा कि बचपन में मेरे माता-पिता और रिश्तेदार मुझे कन्ना कहकर बुलाते थे। जब मैंने एक अखबार में भगवान कृष्ण की एक बच्चे के रूप में एक तस्वीर देखी, तो मुझे चित्र को चित्रित करने की इच्छा हुई। उसने यह भी कहा कि वह कलाकार नहीं थी और अपने छात्र दिनों में देश का नक्शा बनाने के लिए भी संघर्ष करना पड़ता था। लेकिन पिछले छह सालों में उन्होंने भगवान कृष्ण के सैकड़ों चित्र बनाए। बता दें कि जसना के दो बच्चे है और उनके पति  पति दुबई में काम करते है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।