नेशनल कांफ्रेंस ने पत्रकार को श्रीलंका जाने से रोकने की निंदा की

National Conference
Google Creative Commons.
नेकां के मुख्य प्रवक्ता तनवीर सादिक ने पत्रकार आकाश हसन को श्रीलंका की जमीनी स्थिति की जानकारी देने के लिए वहां जाने की अनुमति नहीं देने के कदम की निंदा करते हुए कहा कि इस कार्रवाई का कोई औचित्य नहीं है।

श्रीनगर| नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) ने बुधवार को एक कश्मीरी पत्रकार को श्रीलंका जाने से रोकने की निंदा करते हुए कहा कि यह कदम आवाजाही की स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार का हनन करता है

नेकां के मुख्य प्रवक्ता तनवीर सादिक ने पत्रकार आकाश हसन को श्रीलंका की जमीनी स्थिति की जानकारी देने के लिए वहां जाने की अनुमति नहीं देने के कदम की निंदा करते हुए कहा कि इस कार्रवाई का कोई औचित्य नहीं है।

उन्होंने कहा, हमारी पार्टी आकाश सहित उन पत्रकारों के साथ मजबूती से खड़ी है, जो मौजूदा परिस्थितियों में अपना काम कर रहे हैं। इससे पहले पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित फोटो जर्नलिस्ट सना इरशाद मट्टू को भी विदेश जाने से रोका गया था।

उन्होंने कहा, हमारे पत्रकारों की मुक्त आवाजाही पर प्रतिबंध लगाना मीडिया और प्रेस बिरादरी के काम करने के माहौल को खराब करने की दिशा में एक और कदम है। प्रवक्ता ने कहा कि उनकी पार्टी इस कदम की निंदा करती है और मांग करती है कि पत्रकारों को स्वतंत्र व निष्पक्ष तरीके से काम करने दिया जाए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़