Navneet Kaur Rana: राजनीति से पहले फिल्मों में मचा चुकीं हैं धमाल, 2011 में शादी की वजह से चर्चा में रही

Navneet Kaur Rana
निधि अविनाश । Apr 06, 2022 12:44PM
8 जून 2021 को मुबंई हाईकोर्ट ने नवनीत कौर राणा पर 2 लाख का जुर्माना लगाया था।बताया जाता है कि, नवनीत कौर ने अपनी जाति को लेकर गलत जानकारी दी थी और फर्जी जाति प्रमाण पत्र बनवाकर खुद को अनुसूचित जाति का सदस्य बताया था। नवनीत के खिलाफ एक याचिका लगाई गई थी।

तेलुगु सिनेमा की पूर्व एक्ट्रेस नवनीत कौर राणा अमरावती से लोकसभा सांसद है। कौर का जन्म 3 जनवरी 1986 को मुंबई में हुआ। उनके माता-पिता पंजाबी मूल के हैं। कौर के पिता एक सेना अधिकारी थे। 12वीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद नवनीत ने आगे की पढ़ाई नहीं की और एक मॉडल के रूप में काम करना शुरू कर दिया। कौर ने अपनी फीचर फिल्म की शुरूआत एक कन्नड़ फिल्म दर्शन से की। कौर ने 2010 में गुरप्रीत घुग्गी के साथ पंजाबी फिल्म लाड गया पेचा में भी एक्टिंग की। रवी राणा से शादी करने के बाद नवनीत कौर ने राजनीति में एंट्री की और लोकसभा चुनाव 2014 में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी में एक राजनेता के रूप में करियर आजमाया, लेकिन वह चुनाव हार गई। कौर को लोकसभा चुनाव 2019 में अमरावती महाराष्ट्र निर्वाचन क्षेत्र से एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुना गया।

इसे भी पढ़ें: BJP Foundation Day: जेपी नड्डा बोले- भाजपा ग़रीबों की पार्टी, सेवा ही हमारा लक्ष्य है

कौर ने शिवसेना के आनंदराव अडसुल को हराया था। बता दें कि, नवनीत का समय-समय पर शिवसेना की पार्टी के सदस्यों के साथ विवाद बनता रहा। 8 जून 2021 को मुबंई हाईकोर्ट ने उन पर 2 लाख का जुर्माना लगाया था।बताया जाता है कि, नवनीत कौर ने अपनी जाति को लेकर गलत जानकारी दी थी और फर्जी जाति प्रमाण पत्र बनवाकर खुद को अनुसूचित जाति का सदस्य बताया था। नवनीत के खिलाफ एक याचिका लगाई गई थी जिसमें दावा किया गया था वह पंजाब से आती है और लबाना जाति की हैं और वह महाराष्ट्र में अनुसूचित जाति के तौर पर लिस्टेड नहीं होती है। याचिकाकर्ता ने दावा करते हुए कहा था कि, स्कूल के फर्जी ट्रांसफर सर्टिफिकेट के आधार पर नवनीत राणा ने अपनी कास्ट सर्टिफिकेट बनवाई थी। अपने फिल्मी करियर को खत्म करने के बाद 3 फरवीर 2011 को, उन्होंने अमरावती शहर के बडनेरा निर्वाचन क्षेत्र के एक निर्दलीय विधायक रवि राणा से शादी की। बता दें कि, उन्होंने सामूहिक विवाह समारोह के साथ शादी की, जहां महाराष्ट्र के तत्कालीन मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण और बाबा रामदेव सहित कई नेता और वीआईपी नवविवाहित जोड़े को आशीर्वाद देने के लिए मौजूद थे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़