पेट दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती पवार की होगी पित्ताशय की सर्जरी

NCP chief Sharad Pawar
पेट दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार के पित्ताशय की सर्जरी होगी। मंत्री ने कहा, ‘‘वह खून पतला करने की दवाइयां लेते हैं, जिन्हें इस समस्या का पता चलने के बाद बंद कर दिया गया है। उन्हें 31 मार्च, 2021 को अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा जिसके बाद एंडोस्कोपी और सर्जरी होगी।

मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार की मेडिकल रिपोर्ट में पित्ताशय में समस्या का पता चलते के बाद उनकी सर्जरी होनी है। महाराष्ट्र सरकार में राकांपा के एक मंत्री ने सोमवार को यह जानकारी दी। नवाब मलिक ने ट्वीट किया, ‘‘हमारे पार्टी अध्यक्ष शरद पवार कल शाम पेट में दर्द से परेशान थे, इसलिए उन्हें जांच के लिए ब्रीच कैंडी अस्पताल ले जाया गया। जांच रिपोर्ट में पता चला कि उनके पित्ताशय में समस्या है।’’ मंत्री ने कहा, ‘‘वह खून पतला करने की दवाइयां लेते हैं, जिन्हें इस समस्या का पता चलने के बाद बंद कर दिया गया है। उन्हें 31 मार्च, 2021 को अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा जिसके बाद एंडोस्कोपी और सर्जरी होगी। इसलिए, अगली सूचना तक उनके सभी कार्यक्रम रद्द किए जाते हैं।’’

इसे भी पढ़ें: कोविंद ने राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन संशोधन विधेयक को मंजूरी दी

राकांपा के प्रवक्ता महेश तापसे ने कहा कि रविवार को पेट दर्द की शिकायत के बाद निजी अस्पताल में जांच कराने के बाद पवार सोमवार दोपहर दक्षिण मुंबई स्थित अपने आवास पर लौट आए। गौरतलब है कि पवार की बीमारी की सूचना से पहले अटकलें लगायी जा रही थीं कि पवार (80) ने शनिवार को अहमदाबाद में एक शीर्ष उद्योगपति के आवास पर केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह से भेंट की है। नयी दिल्ली में रविवार को संवाददाता सम्मेलन में शाह ने इस तथाकथित बैठक पर टिप्पणी करने से इंकार करते हुए कहा कि हर चीज सार्वजनिक नहीं की जा सकती है। वहीं, राकांपा नेता मलिक ने कहा कि ऐसी कोई बैठक नहीं हुई है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़