बाल गृहों में बच्चों की देखभाल न होने वाले केजरीवाल की टिप्पणी पर एनसीपीसीआर अध्यक्ष ने लगाया आरोप, कहा- झूठ बोल रहे सीएम

बाल गृहों में बच्चों की देखभाल न होने वाले केजरीवाल की टिप्पणी पर एनसीपीसीआर अध्यक्ष ने लगाया आरोप, कहा- झूठ बोल रहे सीएम

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को एक ट्वीट किया था जिसमें उन्होंने कहा कि, , ''ट्रैफिक लाइट पर खड़े बच्चों की तरफ आज तक किसी सरकार ने ध्यान नहीं दिया, वो इसलिए क्योंकि वो 'वोट बैंक' नहीं होते। हम उनका ध्यान रखेंगे। हमारी सरकार उन बच्चों के लिए शानदार स्कूल बनाएगी।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को कहा कि,  ट्रैफिक लाइट पर खड़े बेसहारा बच्चों के लिए स्कूल बनाया जाएगा। इस बयान पर एनसीपीसीआर के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने सीएम केजरीवाल पर आरोप लगाते हुए कहा कि, दिल्ली के सीएम झूठ बोल रहे हैं। इस दिशा में सुप्रीम कोर्ट कई महीनों से दिल्ली सरकार को निर्देश दे रहा है लेकिन केवल 1,800 बच्चों का पुनर्वास हो पाया है।

इसे भी पढ़ें: मुख्य सचिव संजीव कौशल ने गुरुग्राम मंडल के ज़िलों के उपायुक्तों से विज़न डॉक्युमेंट बनाने को लेकर की चर्चा

बता दें कि, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को एक ट्वीट किया था जिसमें उन्होंने कहा कि, , ''ट्रैफिक लाइट पर खड़े बच्चों की तरफ आज तक किसी सरकार ने ध्यान नहीं दिया, वो इसलिए क्योंकि वो 'वोट बैंक' नहीं होते। हम उनका ध्यान रखेंगे। हमारी सरकार उन बच्चों के लिए शानदार स्कूल बनाएगी। वो वहीं रहेंगे, वहीं पढ़ेंगे। हम उन्हें एक बेहतर नागरिक बनाएंगे।''

केजरीवाल के इस ट्वीट पर रीट्वीट करते हुए राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने जबाव दिया कि, ''माननीय सर्वोच्च न्यायालय नवम्बर माह से बार-बार लगातार सड़क पर रह रहे बच्चों को पुनर्वासित करने का निर्देश दे रहे हैं, लेकिन दिल्ली सरकार की अकर्मण्यता से केवल 1,800 बच्चों को प्रक्रिया में लाया गया है। दिल्ली की सड़कों पर रह रहे 73,000 बच्चों की जानकारी दिल्ली सरकार को दो साल पहले दी गई थी, जिसमें से एक भी बच्चे को पुनर्वासित नहीं की गया। इसके लिए की गई समीक्षा बैठकों से दिल्ली सरकार गायब रही।'' उन्होंने आगे लिखा कि, इसको लेकर कोई भी नीति बनाने के निर्देश नहीं दिए गए। अरविंद केजरीवाल झूठ बोल रहे हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।