PM मोदी ने नए विस्टाडोम डिब्बों की सराहना की, बोले- आधुनिक प्रौद्योगिकी से रेल यात्राएं यादगार होंगी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 30, 2020   21:49
PM मोदी ने नए विस्टाडोम डिब्बों की सराहना की, बोले- आधुनिक प्रौद्योगिकी से रेल यात्राएं यादगार होंगी

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इन नये डिब्बों से देश को अवगत कराते हुए ट्वीट किया और उसके जवाब में प्रधानमंत्री मोदी ने लिखा, ‘‘आरामदायक और आधुनिक प्रौद्योगिकी से रेल यात्राएं बहुत यादगार होंगी।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को इंटेग्रल कोच फैक्ट्री (सवारी डिब्बा कारखाना) द्वारा निर्मित नये विस्टाडोम डिब्बों की सराहना की और कहा कि इनसे मिलने वाली आरामदायक व्यवस्था से लोगों की यात्राएं यादगार हो जाया करेंगी। विस्टाडोम पर्यटक डिब्बों में बड़े और लंबे शीशे वाली खिड़कियां होंगी तथा इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से नियंत्रित की जा सकने वाली कांच की बनी छत भी होंगी। पर्यटन हर प्रकार से नजारों को लुत्फ उठा सकेंगे। हर कोच में 44 पर्यटकों के बैठने की क्षमता होगी तथा ये कुर्सियां 180 डिग्री तक घूम सकेंगी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इन नये डिब्बों से देश को अवगत कराते हुए ट्वीट किया और उसके जवाब में प्रधानमंत्री मोदी ने लिखा, ‘‘आरामदायक और आधुनिक प्रौद्योगिकी से रेल यात्राएं बहुत यादगार होंगी। 

इसे भी पढ़ें: किसान संगठनों और सरकार के बीच कुछ मुद्दों पर बनी सहमति, चार जनवरी को अगले दौर की होगी वार्ता 

गोयल ने इन नये डिब्बों की तस्वीरों और वीडियो के साथ किए गए अपने ट्वीट में लिखा, ‘‘सही ही कहा गया है कि यात्रा को सही मायनों में दूरियों से नहीं बल्कि यादगार बनने के लिहाज से मापा जाता है। भारतीय रेल के नये विस्टाडोम डिब्बों को देखिए जो यात्रियों को न भूलने वाला बनाएंगे तथा उसे यादगार बनाना भी सुनिश्चित करेंगे।’’ इन डिब्बों में यात्रियों के लिए वाई-फाई आधारित सूचना की व्यवस्था होगी। इसमें सुरक्षा के लिहाज से भी सभी अत्याधुनिक उपाय किए गए हैं। इसमें बेहतर और आरामदायक यात्रा के लिए कुर्सियों में एयर स्प्रिंग सस्पेंशन भी लगाए गए हैं। ये कोच जिन स्थानों के लिए निर्धारित हैं उनमें दादर और मडगांव ,कालका शिमला ,कांगड़ा घाटी ,दार्जिलिंग,कश्मीर घाटी आदि शामिल हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।