देश में पायलटों की कोई कमी नहीं : सरकार

VK Singh
प्रतिरूप फोटो
ANI Photo.
नागर विमानन राज्य मंत्री वी. के. सिंह ने एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, ‘‘भारत में पायलटों की कमी नहीं है।हालांकि, कुछ विशेष प्रकार के विमानों के लिए कमांडर की मामूली कमी है और इसके प्रबंध हेतु विदेशी हवाई कर्मी दलअस्थायी अधिकार-पत्र (एफएटीए) जारी करके, विदेशी पायलट की सेवा ली जा रही है।’’

नयी दिल्ली| सरकार ने सोमवार को कहा कि देश में पायलटों की कोई कमी नहीं है और कुछ विशेष प्रकार के विमानों के लिए कमांडर की मामूली कमी है और इसके प्रबंधन के लिए विदेशी पायलटों की सेवाएं ली जा रही हैं।

नागर विमानन राज्य मंत्री वी. के. सिंह ने एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, ‘‘भारत में पायलटों की कमी नहीं है। हालांकि, कुछ विशेष प्रकार के विमानों के लिए कमांडर की मामूली कमी है और इसके प्रबंध हेतु विदेशी हवाई कर्मी दल अस्थायी अधिकार-पत्र (एफएटीए) जारी करके, विदेशी पायलट की सेवा ली जा रही है।’’

उन्होंने कहा कि भारत में वाणिज्यिक पायलट लाइसेंस (सीपीएल) प्राप्त करने वाले पायलट की संख्या में हर साल वृद्धि हो रही है और वर्ष 2021 में, 862 सीपीएल जारी किए गए जो अब तक का सबसे ऊंचा स्तर है।

सिंह ने बताया कि वैश्विक महामारी कोविड-19 से पहले, 2019 में 744 सीपीएल जारी किए गए जबकि 2018 में 640 और 2017 में 552 सीपीएल जारी किए गए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़