किसी भी व्यक्ति को दूसरों का जीवन खतरे में डालने का अधिकार नहीं: अशोक गहलोत

Ashok Gehlot
उन्होंने कहा कि चिकित्सा विशेषज्ञ लगातार इस बात पर जोर दे रहे हैं कि फिलहाल मास्क ही कोरोना से बचाव की 'दवा' है। राज्य सरकार इसके प्रति लोगों को जागरूक करने के साथ-साथ मास्क वितरण का काम भी कर रही है।

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को कहा कि मास्क पहनने से कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव होता है और पहनने वाले के साथ-साथ दूसरे लोगों को भी खतरा कम होता है। उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति सार्वजनिक स्थान पर आवश्यक रूप से मास्क पहने, क्योंकि किसी भी व्यक्ति को दूसरों का जीवन खतरे में डालने का अधिकार नहीं है। गहलोत मुख्यमंत्री निवास पर राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति व इससे बचाव के लिए आगामी कार्ययोजना पर चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि चिकित्सा विशेषज्ञ लगातार इस बात पर जोर दे रहे हैं कि फिलहाल मास्क ही कोरोना से बचाव की 'दवा' है। राज्य सरकार इसके प्रति लोगों को जागरूक करने के साथ-साथ मास्क वितरण का काम भी कर रही है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में संक्रमण का खतरा घटने तक ‘कोरोना के विरूद्ध जन आंदोलन’ चलता रहेगा। बैठक में बोर्ड परीक्षाओं को देखते हुए 10वीं व 12वीं कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए आगामी दिनों में स्कूल खोलने को लेकर विचार-विमर्श किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए इस सम्बन्ध में विशेषज्ञों के साथ गहन विचार-विमर्श किया जाए। देश के दूसरे राज्यों की स्थिति, केन्द्र सरकार के दिशा-निर्देशों और बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखकर उचित निर्णय किया जाए। उन्होंने स्कूल खोलने की स्थिति में अधिकारियों को जरूरी प्रोटोकॉल तैयार करने के भी निर्देश दिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़