शिलान्यास कार्यक्रम से पहले योगी आदित्यनाथ ने तैयारियों का किया निरीक्षण, बोले- 2024 में शुरू होगा जेवर हवाई अड्डा

शिलान्यास कार्यक्रम से पहले योगी आदित्यनाथ ने तैयारियों का किया निरीक्षण, बोले- 2024 में शुरू होगा जेवर हवाई अड्डा

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा कि नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण के साथ इसमें लगभग 34,000 से 35,000 करोड़ रुपए का निवेश होगा और एक लाख से अधिक लोगों को रोज़गार मिलेगा। ये हवाई अड्डा 2024 में कार्यात्मक हो जाएगा।

नोएडा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 25 नवंबर को गौतम बुद्ध नगर जिले के जेवर में स्थित नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का शिलान्यास करेंगे। इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कार्यक्रम से जुड़ी तैयारियों का निरीक्षण किया। इस दौरान मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के साथ, उत्तर प्रदेश भाजपा प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान, प्रदेशाध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह समेत कई नेता मौजूद रहे। 

इसे भी पढ़ें: जेवर एयरपोर्ट का 25 नवंबर को शिलान्यास करेंगे PM मोदी, काले कपड़ों में नहीं होगी किसी की भी एंट्री 

एक लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा कि नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण के साथ इसमें लगभग 34,000 से 35,000 करोड़ रुपए का निवेश होगा और एक लाख से अधिक लोगों को रोज़गार मिलेगा। ये हवाई अड्डा 2024 में कार्यात्मक हो जाएगा। उत्तर प्रदेश का ये 5वां अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा होगा।

उन्होंने कहा कि ये भारत का पहला ऐसा हवाई अड्डा होगा जो प्रदूषण से मुक्त होगा। ये एशिया का सबसे बड़ा हवाई अड्डा होगा। साथ ही इसके नजदीक फिल्म सिटी के निर्माण की कार्रवाई भी हम लोग करने जा रहे हैं। उसकी कार्रवाई भी अंतिम चरणों में चल रही है। 

इसे भी पढ़ें: जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा देगा उत्तर प्रदेश के विकास को नई उड़ान 

आपको बता दें कि नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के शिलान्यास कार्यक्रम को लेकर पुलिस अलर्ट पर है और सुरक्षा व्यवस्था को लेकर गौतम बुद्ध पुलिस ने उच्च स्तरीय बैठक भी की है। इसके अलावा करीब 5 हजार अतिरिक्त पुलिस बल की कार्यक्रम से पहले ही तैनाती की जाएगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।