कचरे के ढेर में मिली एक दिन की नवजात, पुलिस जुटी जांच में

कचरे के ढेर में मिली एक दिन की नवजात, पुलिस जुटी जांच में

ग्रामीणों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर दबी जुबान बताया कि तिदोनी गांव के ज्यादातर महिलाएं और बच्चे भीख मांगने दमोह शहर जाते हैं। और ऐसा हो सकता है कि ये बच्ची उन्हीं में किसी की हो।

भोपाल। मध्य प्रदेश में कचरे के ढेर , झाड़ियों में और नदी घाटों पर नवजात बच्चों के मिलने का सिलसिला लगातार बढ़ता जा रहा है। ताजा मामला मध्य प्रदेश के दमोह जिले से आया है। दमोह जिले में कचरे के ढेर में एक दिन की नवजात मिली  है। देहात थाना क्षेत्र के तिदोनि गांव में शनिवार सुबह-सुबह ग्रामीणों ने कचरे के ढेर में एक दिन का नवजात फेंका हुआ देखा। 

इसे भी पढ़ें:कांग्रेस में क्या होगी सचिन पायलट की जिम्मेदारी? अपनी भूमिका को लेकर खुद किया बड़ा खुलासा 

दरअसल ग्रामीणों ने कचरे के ढेर में नवजात के मिलने की सूचना सरपंच सोमेश गुप्ता को दी।जिसके बाद सरपंच ने तुरंत इसकी सूचना पुलिस को देकर नवजात बच्ची को लेकर दमोहग जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। बताया जा रहा है की बच्ची की गंभीर हालत में इलाज जारी है।

वहीं जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि यह एक दिन की फिमेल बच्ची है। इसकी हालत काफी गंभीर है। बच्ची का इलाज किया जा रहा है। वहीं थाना टीआई विजय सिंह ने कहा कि इलाके में पतासाजी कर रहे हैं कि यह बच्चा किसका है और किस वजह से इस हालत में छोड़ा गया।

इसे भी पढ़ें:29 नवंबर को होने वाली किसानों की ट्रैक्टर रैली स्थगित, 4 दिसंबर को होगी SKM की अगली बैठक 

इसी कड़ी में कुछ ग्रामीणों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर दबी जुबान बताया कि तिदोनी गांव के ज्यादातर महिलाएं और बच्चे भीख मांगने दमोह शहर जाते हैं। और ऐसा हो सकता है कि ये बच्ची उन्हीं में किसी की हो।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...