29 नवंबर को होने वाली किसानों की ट्रैक्टर रैली स्थगित, 4 दिसंबर को होगी SKM की अगली बैठक

29 नवंबर को होने वाली किसानों की ट्रैक्टर रैली स्थगित, 4 दिसंबर को होगी SKM की अगली बैठक

संयुक्त किसान मोर्चा ने बताया कि हमने सरकार को अपनी मांगें भेजी थी। ऐसे में मांगें पूरी होने तक किसान आंदोलन खत्म नहीं होगा लेकिन 29 मार्च को संसद तक होने वाला ट्रैक्टर मार्च स्थगित कर दिया गया है। किसान मोर्चा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को हमने किसानों की मांग सौंप दी थी।

नयी दिल्ली। केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन का एक साल पूरा होने पर किसान संगठनों की आगे की रणनीति क्या होगी। इस पर सिंघु बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा ने बैठक की। इस बैठक में संयुक्त किसान मोर्चा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आगे की रणनीति की जानकारी दी। इस दौरान उन्होंने बताया कि हमने सरकार को अपनी मांगें भेजी थी। ऐसे में मांगें पूरी होने तक किसान आंदोलन खत्म नहीं होगा लेकिन 29 नवंबर को संसद तक होने वाला ट्रैक्टर मार्च स्थगित कर दिया गया है। 

इसे भी पढ़ें: किसान आंदोलन के एक साल पूरे, सिंघू बॉर्डर पर दिखा जरनैल सिंह भिंडरावाले का पोस्टर 

स्थगित हुआ ट्रैक्टर मार्च

किसान मोर्चा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को हमने किसानों की मांग सौंप दी थी और अब संयुक्त किसान मोर्चा की अगली बैठक 4 दिसंबर को होगी। उससे पहले अगर सरकार का जवाब नहीं आया तो आगे की रणनीति बनेगी। किसान मोर्चा ने कहा कि सरकार की घोषणाओं से हम सहमत नहीं हैं। सरकार आमने-सामने बैठकर सम्मानपूर्वक हमसे बातचीत करें।

इसे भी पढ़ें: केंद्र ने किसानों की एक और मांग मानी, नरेंद्र तोमर की अपील, आंदोलन का औचित्य नहीं बचा, अपने घर लौटें किसान 

किसानों के खिलाफ दर्ज मामले हों वापस 

किसान मोर्चा ने साफ कर दिया है कि 29 नवंबर को होने वाली ट्रैक्टर रैली को स्थगित किया गया है। यह रद्द नहीं हुई है। अगर सरकार का जवाब नहीं आया तो 4 दिसंबर को होने वाली बैठक पर इसका निर्णय लिया जाएगा। किसान मोर्चा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राज्य सरकारों और रेलवे को विरोध के दौरान किसानों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेने का निर्देश देना चाहिए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।