ऑनलाइन गेम की लत ने रची एक सनसनी, 12 साल के बच्चे ने खुद लिखी अपनी अपहरण कहानी

ऑनलाइन गेम की लत ने रची एक सनसनी, 12 साल के बच्चे ने खुद लिखी अपनी अपहरण कहानी
प्रतिरूप फोटो

कुछ महीने पहले ही बच्चे की मां ने आत्महत्या की थी। डिप्रेशन में बच्चा ऑनलाइन गेम खेलने लगा और चैलेंज को पूरा करने नीमच पहुंच गया। फिलहाल बच्चे ने अपहरण की कहानी क्यों बनाई अभी इसका पता नहीं चल पाया है।

भोपाल। कोरोना के चलते बच्चों में ऑनलाइन गेम की अजीब ही लत लग चुकी है। ऑनलाइन गेम किस तरह से बच्चों के मस्तिष्क पर किस तरह नकारात्मक असर डालता है इसकी एक और खबर राजधानी भोपाल में देखने को मिली है।बताया जा रहा है कि ऑनलाइन गेम के चलते 12 साल के एक बच्चे ने खुद के अपहरण की कहानी बनाई।

इसे भी पढ़ें:कांग्रेस के मौन व्रत पर गृह मंत्री ने कसा तंज, कहा - ये सब है राजनैतिक ड्रामा 

आपको बता दें कि अशोका गार्डन थाना क्षेत्र में रहने वाले एक परिवार का बच्चा ट्यूशन जाने घर से निकला था। लेकिन काफी देर तक घर नहीं पहुंचा। जिसके बाद उसके पिता ने उसे फोन किया तो बच्चे ने मैसेज भेज कर कहा कि उसका अपहरण हो गया है। बच्चे के अपहरण का मैसेज पढ़ते ही पिता परेशान हो गए। बाद में वे पुलिस थाना पहुंचे और बच्चे के अपहरण की उन्हें जानकारी दी। बच्चे का अपहरण की शिकायत मिलते ही भोपाल पुलिस तुरंत हरकत में आ गई।

वहीं सीसीटीवी और मोबाइल ट्रेस करने के बाद पुलिस बच्चे तक पहुंच गई। पुलिस को बच्चा नीमच में मिला। बच्चे से पूछताछ के बाद खुलासा हुआ और पता चला कि बच्चा फ्री फायर नाम के ऑनलाइन गेम के एक चैलेंज को पूरा करने भोपाल से नीमच पहुंच गया था।

इसे भी पढ़ें:भोपाल के एक निजी स्कूल के फैसले पर बौखलाया बाल आयोग, कहा - सरकार का ऐसा कोई निर्देश नही 

दरअसल जानकारी के मुताबिक कुछ महीने पहले ही बच्चे की मां ने आत्महत्या की थी। डिप्रेशन में बच्चा ऑनलाइन गेम खेलने लगा और चैलेंज को पूरा करने नीमच पहुंच गया। फिलहाल बच्चे ने अपहरण की कहानी क्यों बनाई अभी इसका पता नहीं चल पाया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।