झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र शुक्रवार से, विपक्ष उठा सकता है भ्रष्टाचार का मुद्दा

Ranchi
प्रतिरूप फोटो
ANI
झारखंड विधानसभा का मॉनसून सत्र 29 जुलाई से प्रारंभ हो रहा है जिसमें कुल छह कार्यदिवस होंगे और इसके पांच अगस्त को संपन्न होने की संभावना है। राज्य विधानसभा के मानसून सत्र के हंगामेदार रहने की संभावना है। पूरे सत्र की तैयारियों को लेकर विधानसभाध्यक्ष की ओर से बुलायी गयी सर्वदलीय बैठक में राज्य में सूखे की स्थिति पर सत्र के दौरान विशेष चर्चा कराने पर आज सहमति बनी।

रांची, 29 जुलाई। झारखंड विधानसभा का मॉनसून सत्र 29 जुलाई से प्रारंभ हो रहा है जिसमें कुल छह कार्यदिवस होंगे और इसके पांच अगस्त को संपन्न होने की संभावना है। राज्य विधानसभा के इस छह दिवसीय मानसून सत्र में राज्य सरकार ने पीट-पीट कर मारने के विरोध में और राज्य में जनजातीय विश्वविद्यालय की स्थापना से संबंधित महत्वपूर्ण विधेयक दोबारा पेश करने की तैयारी की है क्योंकि ये दोनों विधेयक विधानसभा ने पहले भी पारित किये थे लेकिन इनके हिंदी-अंग्रेजी अनुवाद में भिन्नता की वजह से राज्यपाल ने इन्हें बगैर हस्ताक्षर किये वापस कर दिया था।

राज्य विधानसभा के मानसून सत्र के हंगामेदार रहने की संभावना है। पूरे सत्र की तैयारियों को लेकर विधानसभाध्यक्ष की ओर से बुलायी गयी सर्वदलीय बैठक में राज्य में सूखे की स्थिति पर सत्र के दौरान विशेष चर्चा कराने पर आज सहमति बनी। सत्र के दौरान राज्य सरकार वर्तमान वित्त वर्ष के लिए प्रथम अनुपूरक बजट भी पेश करेगी।

मुख्य विपक्षी पार्टी भाजपा ने सत्र के दौरान राज्य में अवैध खनन, रांची में महिला सब इंस्पेक्टर की हत्या, सरकारी स्कूलों में रविवार के बदले शुक्रवार की छुट्टी जैसे मुद्दों पर सरकार की घेराबंदी की तैयारी की है। विधानसभा के औपबंधिक कार्यक्रम के अनुसार 30 व 31 जुलाई को शनिवार एवं रविवार होने के चलते सदन की बैठक नहीं होगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़