दूर होगी ऑक्सीजन की किल्लत! उच्च स्तरीय बैठक में पीएमओ ने लिया बड़ा फैसला

दूर होगी ऑक्सीजन की किल्लत! उच्च स्तरीय बैठक में पीएमओ ने लिया बड़ा फैसला

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर रोजाना हजारों लोगों की सांसे छीन रहा है। कोरोना वायरस में संजीवनी मानी जाने वाली ऑक्सीजन की कमी से भारत जूझ रहा है। दिल्ली महाराष्ट्र में हालत बेहद दर्दनाक है।

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर रोजाना हजारों लोगों की सांसे छीन रहा है। कोरोना वायरस में संजीवनी मानी जाने वाली ऑक्सीजन की कमी से भारत जूझ रहा है। दिल्ली महाराष्ट्र में हालत बेहद दर्दनाक है। दिल्ली में आज सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए और हालात को संभालने के लिए एक उच्चस्तरी बैठक की जिसमें पीयुष गोयल, अमित शाह सहित कई कैबिनेट मंत्री शामिल हुए। इस बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी ने हालात की गंभीरता को देखते हुए कई बड़े फैसले किए। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस के कारण अर्थव्यवस्था, राजनीतिक व्यवस्था चरमरा रही : संजय राउत 

पीएम मोदी ने पीएम कार्स फंड से 1 लाख पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर खरीदने की मंजूरी दी है। उन्होंने निर्देश जारी करके कहा है कि इन ऑक्सीजन Concentrators को जल्द से जल्द खरीद लिया जाना चाहिए और जिन राज्यों में इसकी ज्यादा जरुरत है वहां तत्काल इन्हें पहुंचाना चाहिएं। सरकार ने कहा कि पीएम-केयर्स कोष के तहत 500 नए पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र को मंजूरी दी गयी। इससे पहले पीएम केयर फंड के तहत 713 पीएसए प्लांटों को मंजूरी दी गई थी, इसके अलावा पीएम केयर फंड के तहत 500 नए प्रेशर स्विंग सोर्सेशन (पीएसए) ऑक्सीजन प्लांट मंजूर किए गए। पीएमओ ने कहा पीएसए प्लांट जिला मुख्यालय और टियर 2 शहरों में अस्पतालों में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति में वृद्धि करेंगे।

इसे भी पढ़ें: टीकाकरण को राष्ट्रीय कर्त्तव्य मानते हुए कोरोना को हराने में सहयोग दें : नरोत्तम मिश्रा 

आपको बता दे कि ऑक्सीजन की भारी किल्लत के बीच अब तक, रेलवे ने उत्तर प्रदेश को 202 एमटी मेडिकल ऑक्सीजन, महाराष्ट्र को 174 मीट्रिक टन, दिल्ली को 70 मीट्रिक टन और मध्य प्रदेश को 64 मीट्रिक टन रेल मंत्रालय दिया है। पहली ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन 19 अप्रैल को मुंबई से विजाग के लिए रवाना हुई। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।