पेरियार विवाद: मद्रास हाई कोर्ट ने रजनीकांत के खिलाफ याचिका खारिज की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 24, 2020   15:39
पेरियार विवाद: मद्रास हाई कोर्ट ने रजनीकांत के खिलाफ याचिका खारिज की

सरकारी वकील ए नटराजन ने दलील दी कि याचिकाकर्ता उपलब्ध वैकल्पिक उपाय अपनाने के बगैर ही अदालत आया है। न्यायमूर्ति राजमणिकम ने याचिकाकर्ताओं के वकील से पूछा कि क्या वह याचिका वापस लेना चाहते हैं। वकील द्वारा इस पर सहमति जताने के बाद अदालत ने याचिका खारिज कर दी।

चेन्नई। मद्रास उच्च न्यायालय ने तर्कवादी नेता ई वी रामास्वामी ‘‘पेरियार’’ के खिलाफ टिप्पणी को लेकर अभिनेता रजनीकांत के खिलाफ दायर याचिका याचिकाकर्ता द्वारा वापस लिए जाने के कारण शुक्रवार को इसे खारिज कर दिया। न्यायमूर्ति पी राजमणिकम द्रविड़र विदुतलाई कझगम नामक संगठन कीयाचिका पर सुनवाई की।

इसे भी पढ़ें: पेरियार ने सच में किया था राम का अपमान? जानें पूरा मामला, जिसकी वजह से साथ आए दक्षिण के दो विरोधी

सरकारी वकील ए नटराजन ने दलील दी कि याचिकाकर्ता उपलब्ध वैकल्पिक उपाय अपनाने के बगैर ही अदालत आया है। न्यायमूर्ति राजमणिकम ने याचिकाकर्ताओं के वकील से पूछा कि क्या वह याचिका वापस लेना चाहते हैं। वकील द्वारा इस पर सहमति जताने के बाद अदालत ने याचिका खारिज कर दी।

इसे भी पढ़ें: पेरियार: जिनके खिलाफ बोलने की हिमाकत दक्षिण में कोई नहीं करता और देवी-देवताओं पर क्या थी उनकी सोच

तमिल पत्रिका ‘तुगलक’ द्वारा 14 जनवरी को आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने के दौरान रजनीकांत ने आरोप लगाया था, ‘‘1971 में सेलम में पेरियार ने रैली निकाली थी जिसमें चप्पल की माला पहने भगवान श्रीरामचंद्रमूर्ती और सीता की नग्न तस्वीरें दिखाई गई थीं...।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।