चक्रवाती तूफान से हुई तबाही पर पीएम मोदी और ममता की समीक्षा बैठक, राज्यपाल धनखड़ भी होंगे शामिल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2021   10:49
चक्रवाती तूफान से हुई तबाही पर पीएम मोदी और ममता की समीक्षा बैठक,  राज्यपाल धनखड़ भी होंगे शामिल

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ चक्रवात ‘यास’ से हुए नुकसान की समीक्षा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच होने वाली बैठक में शामिल होंगे।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ चक्रवात ‘यास’ से हुए नुकसान की समीक्षा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच होने वाली बैठक में शामिल होंगे। अधिकारियों ने बताया कि यह बैठक शुक्रवार की दोपहर को पश्चिम मेदिनीपुर जिले में कलाईकुंडा में होनी है। इससे पहले मोदी प्रभावित इलाकों का विमान से जायजा लेंगे। उन्होंने बताया कि धनखड़ कलाईकुंडा वायु सेना अड्डे पर प्रधानमंत्री की अगवानी करेंगे।

इसे भी पढ़ें: भारतीय सिनेमा को विश्वपटल पर पहुंचाने वाले पहले फिल्म निर्माता थे महबूब खान

राज्यपाल ने ट्वीट किया, ‘‘पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ 28 मई को कलाईकुंडा वायु सेना अड्डे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगवानी करेंगे। प्रधानमंत्री जान और माल को हुए नुकसान का आकलन करने के लिए पश्चिम बंगाल में चक्रवात यास से प्रभावित इलाकों का दौरा करेंगे। राज्यपाल धनखड़ राज्य सरकार के साथ प्रधानमंत्री की समीक्षा बैठक में शामिल होंगे।’’ बनर्जी का भी प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करने का कार्यक्रम है। मुख्यमंत्री ने चक्रवात यास के कारण पश्चिम बंगाल को 15,000 करोड़ रुपये का नुकसान होने की बात कही है।

इसे भी पढ़ें: हांगकांग: लोकतंत्र समर्थक जिमी लाई को 14 माह की सजा, गैरकानूनी तरीके से रैली निकालने का आरोप

उन्होंने 1,000 करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा करते हुए कहा कि उनकी सरकार प्रभावित लोगों के लिए ‘दुआरे त्राण’ (घर पर राहत) कार्यक्रम चलाएगी। उन्होंने वित्त विभाग को पिछले साल मई में चक्रवात अम्फान के बाद बनाए कई तटबंधों, पुलों और सड़कों को हुए नुकसान की जांच के भी आदेश दिए हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।