देश को लॉकडाउन से बचाना है, इसे अंतिम विकल्प के रूप में ही राज्य सरकारें इस्तेमाल करें: मोदी

देश को लॉकडाउन से बचाना है, इसे अंतिम विकल्प के रूप में ही राज्य सरकारें इस्तेमाल करें: मोदी

मोदी ने कहा कि आज नवरात्रि का आखिरी दिन है। कल रामनवमी है और मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम का यही संदेश है कि हम मर्यादाओं का पालन करें। कोरोना के इस संकट काल में कोरोना से बचने के जो भी उपाय हैं, कृपया करके उनका पालन शत प्रतिशत करिए।

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने अपने संबोधन के जरिए देशवासियों को एक बार फिर से आश्वासन दिया कि फिलहाल लॉकडाउन अंतिम विकल्प है। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने राज्यों से अपील की कि वे लॉकडाउन को अंतिम विकल्प रखें। हमें देश को लॉकडाउन से बचाना है।  प्रधानमंत्री ने माइक्रो कंटेनमेंट जोन पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि बिना जरूरत के घर से बाहर ना निकले। लोग कोरोना वायरस गाइडलाइन का पालन करें। उन्होंने कहा कि आर्थिक गतिविधियां हर हाल में जारी रहनी चाहिए।

मोदी ने कहा कि मेरा राज्य प्रशासन से आग्रह है कि वो श्रमिकों का भरोसा जगाए रखें, उनसे आग्रह करें कि वो जहां हैं, वहीं रहें। राज्यों द्वारा दिया गया ये भरोसा उनकी बहुत मदद करेगा कि वो जिस शहर में हैं वहीं पर अगले कुछ दिनों में वैक्सीन भी लगेगी और उनका काम भी बंद नहीं होगा। मोदी ने कहा कि मेरा युवा साथियों से अनुरोध है की वो अपनी सोसायटी में, मोहल्ले में, अपार्टमेंट्स में छोटी-छोटी कमेटियां बनाकर कोविड अनुशासन का पालन करवाने में मदद करे। हम ऐसा करेंगे तो सरकारों को न कंटेनमेंट जोन बनाने की जरूरत पड़ेगी, कर्फ़्यू लगाने की, न लॉकडाउन लगाने की। अपने बाल मित्रों से एक बात विशेष तौर पर कहना चाहता हूं। मेरे बाल मित्र, घर में ऐसा माहौल बनाएं कि बिना काम, बिना कारण घर के लोग, घर से बाहर न निकलें। आपकी जिद बहुत बड़ा परिणाम ला सकती है।

इसे भी पढ़ें: चुनौती बड़ी है, अपने संकल्प, हौसले और तैयारी के साथ इसको पार करना है: PM मोदी

मोदी ने कहा कि आज नवरात्रि का आखिरी दिन है। कल रामनवमी है और मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम का यही संदेश है कि हम मर्यादाओं का पालन करें। कोरोना के इस संकट काल में कोरोना से बचने के जो भी उपाय हैं, कृपया करके उनका पालन शत प्रतिशत करिए। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।