लखीमपुर हिंसा मामला: पुलिस की कार्रवाई, आशीष पांडे और लव कुश को हिरासत में लिया गया

लखीमपुर हिंसा मामला: पुलिस की कार्रवाई, आशीष पांडे और लव कुश को हिरासत में लिया गया

दोनों से आईजी रेंज के अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं। घटना में आशीष और लव कुश दोनों ही घायल हुए थे। घटनास्थल पर पुलिस को खाली कारतूस भी मिला है जिसकी जांच कराई जा रही है।

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के बाद राजनीति जमकर हो रही है। उत्तर प्रदेश पुलिस पर भी सरकार उठाए जा रहे है। इन सब के बीच उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस घटना के मामले में दो लोगों को हिरासत में लिया गया। जिन दो लोगों को हिरासत में लिया गया है उनमें आशीष पांडे और लव कुश शामिल है। दोनों से आईजी रेंज के अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं। घटना में आशीष और लव कुश दोनों ही घायल हुए थे। घटनास्थल पर पुलिस को खाली कारतूस भी मिला है जिसकी जांच कराई जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: अगर जांच निष्पक्ष करनी है तो गृह राज्य मंत्री को पद से इस्तीफा देना चाहिए : प्रियंका गांधी वाद्रा

इससे पहले आज ही सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार से बृहस्पतिवार को यह बताने के लिएकहा कि तीन अक्टूबर की लखीमपुर खीरी हिंसा के सिलसिले में किन आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है और उन्हें गिरफ्तार किया गया है या नहीं। इस घटना में आठ लोगों की मौत हो गई थी। प्रधान न्यायाधीश एनवी रमण, न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ ने उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से पेश हुए वकील को इस बारे में स्थिति रिपोर्ट में जानकारी देने का निर्देश दिया। 

इसे भी पढ़ें: नवजोत सिंह सिद्धू का अल्टीमेटम, केंद्रीय गृह राज्यमंत्री को गिरफ्तार नहीं किया तो मैं भूख हड़ताल करूंगा

वकील ने पीठ से कहा कि घटना की जांच के लिए एक न्यायिक आयोग का गठन किया गया है और राज्य मामले में एक स्थिति रिपोर्ट दाखिल करेगा। शीर्ष अदालत ने मामले में अगली सुनवाई शुक्रवार को तय की है। लखीमपुर खीरी में किसानों के प्रदर्शन के दौरान तीन अक्टूबर को हुई हिंसा में आठ लोग मारे गए थे। इससे पहले, दोपहर में शीर्ष अदालत ने कहा था कि वह उन दोनों वकीलों का पक्ष जानना चाहती है जिन्होंने लखीमपुर खीरी घटना में सीबीआई को शामिल करते हुए उच्च स्तरीय जांच का अनुरोध किया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।