प्रतिद्वंद्वी दलों ने प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री के हाथों में शक्ति केंद्रित किया : राहुल का आरोप

Rahul Gandhi
उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस की विचारधारा के मुताबिक, शक्ति लोगों की है और हम इसे लोगों को देना चाहते हैं।’’ अपने पिता एवं पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा पंचायती राज प्रणाली के बारे में कही गई बातों को याद करते हुए राहुल ने कहा कि शक्ति सरपंचों और स्थानीय निकायों के नेताओं को दी जानी चाहिए।

जालंधर (पंजाब)| कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बृहस्पतिवार को प्रतिद्वंद्वी राजनीतिक दलों पर प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री के हाथों में शक्तियां केंद्रित करने का आरोप लगाया।

इसके साथ ही, उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी की विचारधारा के मुताबिक यह शक्ति लोगों की है। राहुल ने कहा कि शक्ति के केंद्रीकरण के चलते, जैसा कि भारतीय जनता पार्टी नीत केंद्र सरकार द्वारा किया जा रहा है, देश और राज्यों को भुगतना पड़ रहा है।

उन्होंने दावा किया कि नोटबंदी और उत्पाद एवं सेवा कर (जीएसटी) के क्रियान्वयन के चलते छोटे दुकानदार और मझोले उद्यमों को सर्वाधिक परेशानी का सामना करना पड़ा, जबकि सिर्फ दो-तीन अरबपति को फायदा पहुंचाया गया।

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘चाहे वह नरेंद्र मोदी जी हों, भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) या आप (आम आदमी पार्टी) सहित अन्य दल हो। ये सभी शक्तियां केंद्रीकृत करती हैं। वे मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को शक्ति देती हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस की विचारधारा के मुताबिक, शक्ति लोगों की है और हम इसे लोगों को देना चाहते हैं।’’ अपने पिता एवं पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा पंचायती राज प्रणाली के बारे में कही गई बातों को याद करते हुए राहुल ने कहा कि शक्ति सरपंचों और स्थानीय निकायों के नेताओं को दी जानी चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘‘पंजाब को नौकरशाही द्वारा नहीं चलाया जाना चाहिए।’’ उन्होंने कृषि कानून लाने को लेकर भाजपा नीत केंद्र सरकार पर भी प्रहार किया। हालांकि, इन तीन कानूनों को किसानों के विरोध-प्रदर्शन के बाद निरस्त कर दिया गया।

उन्होंने कहा कि कानूनों का मुख्य लक्ष्य यह था कि जो कुछ किसानों, मजदूरों और छोटे दुकानदारों का है, उन्हें देश के पांच-छह अरबपतियों को दे दिया जाए। उन्होंने केंद्र को तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए मजबूर करने को लेकर पंजाब के किसानों की सराहना की। राहुल ने बेरोजगारी को लेकर भी केंद्र की आलोचना की।

उन्होंने कहा, ‘‘देश में आज सर्वाधिक बेरोजगारी है। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘आज पूरा बोझ देश में गरीबों पर डाल दिया गया है। हम उस बोझ को कम करना चाहते हैं।’’ उन्होंने पंजाब में लोगों के कल्याण के लिए संसाधन जुटाने के बारे में भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, ‘‘पंजाब में शक्ति को कैसे विकेंद्रीकृत किया जाए? सवाल उठता है। सबसे पहले, आपका पैसा चार क्षेत्रों में है जो शराब, खनन, परिवहन और केबल टीवी में है। इनमें हजारों करोड़ रुपये हैं और वे आप तक नहीं पहुंचते हैं। ’’

राहुल ने कहा, ‘‘हमने एक शुरूआत की है और हमें उत्पत्ति की नहीं बल्कि क्रांति की जरूरत है। हम आपका पैसा आपको देना चाहते हैं। ’’

उन्होंने कहा कि शराब, खनन, परिवहन और केबल से जुटाए गये धन का उपयोग विश्व स्तरीय उत्कृष्टता केंद्रों के सृजन में किया जाएगा।

उन्होंने स्थानीय उद्योग को बढ़ावा देने पर जोर देते हुए कहा कि पूरी दुनिया देखेगी, ‘मेड इन पंजाब।’ उन्होंने जोर देते हुए कहा कि पंजाब में सबसे महत्वपूर्ण चीज शांति एवं भाईचारा है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़