साध्वी प्रज्ञा के दोबारा नामांकन भरने से पहले दिखाए गए काले झंडे

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 23 2019 6:24PM
साध्वी प्रज्ञा के दोबारा नामांकन भरने से पहले दिखाए गए काले झंडे
Image Source: Google

कोहेफिजा पुलिस थाना प्रभारी अमरेश बोहरे ने बताया कि प्रज्ञा के रोड शो के दौरान एक युवक द्वारा काले झंडे दिखाये गये। उसे पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।

भोपाल। भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने मंगलवार को यहां विशाल रोड शो निकालकर भोपाल लोकसभा सीट से फिर से अपना नामांकन-पत्र दाखिल किया। इस रोड शो के दौरान एक युवक ने प्रज्ञा को काले झंडे दिखाए, जिसे पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। कोहेफिजा पुलिस थाना प्रभारी अमरेश बोहरे ने बताया कि प्रज्ञा के रोड शो के दौरान एक युवक द्वारा काले झंडे दिखाये गये। उसे पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। मामले की विस्तृत जांच जारी है। इसी बीच, इसका एक वीडियो वायरल हो गया, जिसमें कुछ लोग इस युवक को पीटते हुए नजर आ रहे हैं। प्रज्ञा ने 11 पंडितों द्वारा किए गए मंत्रोच्चारण के साथ इस सीट से सोमवार को भी अपना नामांकन-पत्र दाखिल किया था और नामांकन-पत्र दाखिल करने के बाद मीडिया से कहा था कि उन्होंने शुभ मुहूर्त (चौघडिया) का नामांकन फार्म भरा है और विधिवत नामांकन फार्म मंगलवार को भरेंगी।

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: आजादी के बाद से ही गरीबी हटाने के नाम पर देश से धोखा करती रही कांग्रेस: राजनाथ

इसी सीट पर उनका मुख्य मुकाबला कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से है। 29 सितम्बर, 2008 को मालेगांव में हुये बम धमाकों के मामले में प्रज्ञा आरोपी हैं और तकरीबन नौ साल जेल में रहीं हैं। इस बहुचर्चित मामले में वह इन दिनों जमानत पर चल रही हैं। नामांकन से पहले साध्वी प्रज्ञा ने अपने शक्ति प्रदर्शन करने के लिए पार्टी नेताओं, कार्यकर्ताओं एवं समर्थकों के साथ-साथ संघ कार्यकर्ताओं और साधु-संतों की मौजूदगी में पुराने भोपाल के भवानी चौक से कलेक्टर ऑफिस तक करीब दो किलोमीटर का भव्य रोड शो किया। इस रोड शो में अधिकतर लोग भगवा रंग के कपड़े या पगड़ी धारण किये हुए थे। 

अपना रोड शो शुरू करने से पहले वहां मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए प्रज्ञा ने कांग्रेस एवं दिग्विजय पर निशाना साधते हुए कहा कि इनके जीवन में हिन्दुत्व नहीं है। इसके प्रत्यक्ष प्रमाण है। यदि ये हिन्दू होते तो ये संघ पर अत्याचार नहीं करते, यदि ये हिन्दू होते तो समाज को बांटते नहीं, अगर ये हिन्दू होते तो समाज में कोई महिला पीड़ित नहीं होती, यदि ये हिन्दू होते तो समाज विघटित नहीं होता। देश सुरक्षित होता। उन्होंने कहा कि इन्होंने (दिग्विजय) स्वयं अपनी वाणी में कह दिया कि हिन्दुत्व तो हमारे में है ही नहीं। इन्होंने (दिग्विजय) तो कहा है कि हिन्दुत्व हमारी डिक्शनरी में नहीं है। प्रज्ञा ने कहा कि हिन्दुत्व विकास, समृद्धता एवं विश्व शांति का पर्याय है।



इसे भी पढ़ें: प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल से टिकट देकर भाजपा कर रही है सांप्रदायिक विभाजन: कमलनाथ

प्रज्ञा ने कहा कि मैं भारत माता की सुपुत्री हूं। मैं उनका एक अंश हूं। सिर्फ मैं आपकी (जनता) चेतना जगाने आई हूं। आप विभिन्न समुदायों एवं वर्गों में बंटे हुए हो। आप वर्ग-भेद को माने नहीं, क्योंकि समाज का विघटन करने के बाद सत्ता के लालची सिर्फ और सिर्फ आपका दुरूपयोग करते हैं और अब हम यह होने नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि मेरा एजेंडा विकास है। उन्होंने अपनी तुलना केन्द्रीय मंत्री एवं तेज तर्रार साध्वी उमा भारती से करते हुए कहा कि वर्ष 2003 में मध्य प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में एक साध्वी ने दिग्विजय को ऐसा पराजित किया कि 16 साल तक मुंह नहीं उठा पाए। एक बार फिर साध्वी उनके खिलाफ भोपाल सीट पर आ गई है।



रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video