लांबी सीट से छठी बार चुनाव लड़ेंगे 94 साल के प्रकाश सिंह बादल, सबसे कम उम्र और सबसे उम्रदराज मुख्यमंत्री रह चुके हैं

prakash singh badal
अभिनय आकाश । Jan 28, 2022 1:51PM
शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल द्वारा उनकी उम्मीदवारी की घोषणा के बाद प्रकाश सिंह देश में किसी भी प्रकार के चुनाव में सबसे उम्रदराज उम्मीदवार होंगे। इससे पहले केरल के पूर्व मुख्यमंत्री वीएस अच्युतानंदन ने 92 साल की उम्र में 2016 में सबसे उम्रदराज उम्मीदवार के तौर पर विधानसभा चुनाव लड़ा था।

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल एक बार फिर विधानसभा चुनाव के रण में उतरने के लिए तैयार हैं। वो लांबी विधानसभा क्षेत्र से छठी बार विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं। वो इस विधानसभा क्षेत्र से लगातार पांच बार विधायक चुने गए हैं। 94 साल के हो चुके प्रकाश सिंह बादल पांच बार प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे हैं। कुछ दिन पहले ही उन्हें कोरोना भी हुआ था लेकिन पॉजिटिव पाए जाने से पहले वो पूरी विधानसभा का दौरा भी कर चुके थे। बता दें कि शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल द्वारा उनकी उम्मीदवारी की घोषणा के बाद प्रकाश सिंह देश में किसी भी प्रकार के चुनाव में सबसे उम्रदराज उम्मीदवार होंगे। इससे पहले केरल के पूर्व मुख्यमंत्री वीएस अच्युतानंदन ने 92 साल की उम्र में 2016 में सबसे उम्रदराज उम्मीदवार के तौर पर विधानसभा चुनाव लड़ा था। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब में दलित और सिख वोट बैंक को साधने में जुटी कांग्रेस, राहुल ने हरमंदिर साहिब में टेका मत्था

पिछले पांच दशकों से अधिक समय से शिरोमणि अकाली दल के संरक्षक प्रकाश सिंह बादल पार्टी के चुनाव अभियान का अभिन्न हिस्सा रहे हैं और पार्टी के लिए ताकत का स्रोत रहे हैं। पार्टी के मुखिया का करिश्मा ऐसा है कि 94 साल के हो जाने पर भी अकाली दल को चुनावी लड़ाई में उनकी मौजूदगी की जरूरत महसूस होती है। सूत्रों के अनुसार वरिष्ठ बादल अनिच्छुक थे, लेकिन पार्टी की प्रतिष्ठा को बहाल करने के लिए चुनाव लड़ने के लिए तैयार हो गए।

इसे भी पढ़ें: पंजाब में अमृतसर ईस्ट बना सबसे हॉट सीट, अकाली दल ने सिद्धू के खिलाफ मजीठिया को उतारा

शिअद को 2017 के विधानसभा चुनावों में सबसे बुरी हार का सामना करना पड़ा, जब वह मुश्किल से 15 सीटें जीत सकी और मुख्य विपक्षी पार्टी का टैग खो दिया, जिसे आम आदमी पार्टी ने 20 सीटें जीतकर हासिल कर लिया था। शिरोमणि अकाली दल इस बार कोई जोखिम नहीं लेना चाहता था और पार्टी के साथ पंजाब के ग्रामीण  क्षेत्र में अपने कोर वोट बैंक वापस पाने के लिए प्रकाश सिंह बादल का सहारा है। अंदरूनी सूत्रों का दावा है कि बादल सीनियर भले ही अपने निर्वाचन क्षेत्र लंबी में प्रचार करने तक सीमित हों, लेकिन चुनावी परिदृश्य में उनकी मौजूदगी पार्टी के लिए एक बड़ा बढ़ावा और ताकत का स्रोत होगी।

इसे भी पढ़ें: रणदीप सिंह नाभा ने लुधियाना में फहराया तिरंगा

1969 के विधानसभा चुनावों के बाद से बड़े बादल हमेशा संसदीय और विधानसभा चुनावों दोनों में मामलों के शीर्ष पर रहे हैं। व्यक्तिगत मोर्चे पर, वह कभी कोई चुनाव नहीं हारे, लगातार 10 चुनाव जीते। पहले पांच 1969 से 1985 तक गिद्दड़बाहा विधानसभा क्षेत्र से और अगले पांच 1997 से 2017 तक लंबी विधानसभा क्षेत्र से। हालाँकि, वरिष्ठ बादल ने 1957 में मलोट विधानसभा क्षेत्र से अपना पहला चुनाव जीता था और फिर 1967 में गिद्दड़बाहा से हरचरण सिंह बराड़ से हार गए थे। बीच में, उन्होंने 1977 के संसदीय चुनाव में भी आपातकाल हटने के बाद जीत हासिल की थी और मोरारजी देसाई सरकार में केंद्रीय कृषि मंत्री नियुक्त किए गए लेकिन वरिष्ठ बादल ने राज्य की राजनीति में वापसी करना पसंद किया और उसके बाद विधानसभा चुनाव लड़ा। इन 12 चुनावों में, वह 1970, 1977, 1997, 2007 और 2012 में पांच मौकों पर मुख्यमंत्री बने। 1997 से 2017 तक 20 वर्षों में से, वह 15 वर्षों तक मुख्यमंत्री रहे। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़