जेल में बंद कैदी सोशल मीडिया पर लगातार सक्रीय, जेल प्रबंधन पर खड़े हुए सवाल

जेल में बंद कैदी सोशल मीडिया पर लगातार सक्रीय, जेल प्रबंधन पर खड़े हुए सवाल

वीडियो वायरल होने के बाद हड़कंप मच गया है। अब सवाल यह खड़े हो गए है कि जेल के अंदर तक मोबाईल कैसे पहुंचा। इस घटना ने जेल महकमे पर सवाल खड़े कर दिए है। वहीं पुलिस-प्रशासन को भनक तक नहीं कि बदमाश इंस्टाग्राम पर सक्रिय है।

भोपाल। राजधानी भोपाल के कुख्यात बदमाश पप्पू चटका का जेल में मोबाइल पर बात करते हुए एक वीडियो वायरल हुआ है। 4 महीने पहले हत्या के आरोप में सतना जेल में बंद भोपाल के कुख्यात बदमाश इन दिनों इंस्टाग्राम पर सक्रिय है। जेल में बंद होने के बावजूद सोशल मीडिया पर सक्रिय होने से जेल प्रबंधन पर सवाल खड़े हो रहे हैं।

दरअसल वायरल वीडियो में बदमाश पप्पू चटका जेल के अंदर से फोन पर बात कर रहा है और पप्पू चटका इसका बाकायदा वीडियो बना रहा है और फिर उसने इस वीडियो को अपनी इंस्टाग्राम आईडी में डाला है। यह वीडियो सीखचों के दूसरी तरफ से लिया गया है। यही नहीं, पप्पू ने अपनी प्रोफाइल में खुद को भोपाल किंग भी बता रखा है।

इसे भी पढ़ें:भागवत कथा वाचक तरुण मुरारी बापू ने किया राष्ट्रपिता का अपमान, पुलिस ने दर्ज किया मामला 

वहीं चटका ये वीडियो वायरल होने के बाद हड़कंप मच गया है। अब सवाल यह खड़े हो गए है कि जेल के अंदर तक मोबाईल कैसे पहुंचा। इस घटना ने जेल महकमे पर सवाल खड़े कर दिए है। वहीं पुलिस-प्रशासन को भनक तक नहीं कि बदमाश इंस्टाग्राम पर सक्रिय है।

पप्पू चटका पांच सितंबर को एक हत्या के मामले में फरार हो गया था जिस पर भोपाल के तत्कालीन डीआईजी ने इनाम घोषित किया था। इसके बाद उसे गोवा में फरारी काटते हुए गिरफ्तार किया गया था। पिछले महीने 4 दिसम्बर को भोपाल जेल से सतना सेंट्रल जेल शिफ्ट किया गया है।

इसे भी पढ़ें:MP में बेकाबू हुआ कोरोना, पिछले 24 घंटो में मिले 308 मरीज, 1 की मौत 

इसकी गिरफ्तारी से पहले भी चटका का एक वीडियो वायरल हुआ था। राजधानी भोपाल में बुलंद हौसले खाकी से बेख़ौफ़ दहशत फैलाते हुए पप्पू चटका का वीडियो वायरल हुआ था। वीडियो में पप्पू चटका फिल्मी सीन की तर्ज पर दो युवकों के साथ जमकर मारपीट कर रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।