तीस्ता सीतलवाड़ की रिहाई की मांग को लेकर एसएफआई का कोलकाता में प्रदर्शन

Teesta Setalwad
प्रतिरूप फोटो
ANI Photo.
एसएफआई प्रेसीडेंसी इकाई की प्रवक्ता अद्रिजा करक ने कहा, हम मांग करते हैं कि सीतलवाड़ को तुरंत रिहा किया जाए और उनके तथा साथ अन्य राजनीतिक बंदियों के खिलाफ झूठे मामले वापस लिए जाएं। मोदी सरकार ने राजनीतिक प्रतिशोध के कारण उन्हें झूठे मामलों में फंसाया है।

कोलकाता| नागरिक अधिकार कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ की बिना शर्त रिहाई की मांग को लेकर मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की छात्र इकाई स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) ने बुधवार को प्रेसीडेंसी विश्वविद्यालय के कॉलेज स्ट्रीट परिसर में प्रदर्शन किया। एसएफआई के लगभग 100 कार्यकर्ताओं ने सीतलवाड़ और अन्य राजनीतिक कैदियों की तत्काल रिहाई की मांग करते हुए नारे लगाए।

एसएफआई प्रेसीडेंसी इकाई की प्रवक्ता अद्रिजा करक ने कहा, हम मांग करते हैं कि सीतलवाड़ को तुरंत रिहा किया जाए और उनके तथा साथ अन्य राजनीतिक बंदियों के खिलाफ झूठे मामले वापस लिए जाएं। मोदी सरकार ने राजनीतिक प्रतिशोध के कारण उन्हें झूठे मामलों में फंसाया है।

उन्होंने कहा, अगर सीतलवाड़ और अन्य नागरिक अधिकार कार्यकर्ताओं को तुरंत रिहा नहीं किया गया तो हम भविष्य में भी इसी तरह का विरोध प्रदर्शन करेंगे। वाम दलों ने गुजरात पुलिस द्वारा मुंबई की कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ की गिरफ्तारी का कड़ा विरोध किया है।

माकपा ने आरोप लगाया है कि यह कदम नागरिकों के लोकतांत्रिक अधिकारों के लिहाज़ से घृणित है। उल्लेखनीय है कि गुजरात आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) ने शनिवार को मुंबई में सीतलवाड़ को हिरासत में लिया था।

जालसाजी, आपराधिक साजिश और आपराधिक कार्यवाही के अपमान के एक नए मामले के संबंध में रविवार तड़के उन्हें अहमदाबाद अपराध शाखा को सौंप दिया गया था।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़