ITO पर ट्रैक्टर पलटने से एक प्रदर्शनकारी किसान की हुई मौत, शव को पोस्टमॉर्टम के लिए नहीं ले जाने दे रहे प्रदर्शनकारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 26, 2021   17:07
ITO पर ट्रैक्टर पलटने से एक प्रदर्शनकारी किसान की हुई मौत, शव को पोस्टमॉर्टम के लिए नहीं ले जाने दे रहे प्रदर्शनकारी

पुलिस ने बताया कि किसानों ने शव को तिरंगे में लपेट कर आईटीओ क्रॉसिंग पर रखा है और पुलिस को शव पोस्टमॉर्टम के लिए नहीं ले जाने दे रहे हैं। किसानों ने वहां मौजूद मीडिया कर्मियों पर भी हमला किया।

नयी दिल्ली। तीन कृषि कानूनों के खिलाफ मंगलवार को आयोजित ट्रैक्टर परेड के दौरान दिल्ली के आईटीओ पर ट्रैक्टर पलटने से उसमें सवार एक किसान की मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि मृतक किसान से जुड़ी जानकारियां जुटाई जा रही हैं। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि व्यक्ति की मौत उससमय हुई जब उसका ट्रैक्टर पलट गया। उन्होंने बताया कि वह पूर्व निर्धारित मार्ग को छोड़कर गाजीपुर बॉर्डर के रास्ते दाखिल हुए प्रदर्शनकारी किसानों के साथ आया था। पुलिस ने बताया कि परेड में शामिल व्यक्ति ट्रैक्टर चला रहा था और ट्रैक्टर पलटने पर वह उसके नीचे दब गया। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के नांगलोई चौक पर पुलिस ने उग्रभीड़ को तितर-बितर करने के लिए दागे आंसू गैस के गोले 

पुलिस ने बताया कि किसानों ने शव को तिरंगे में लपेट कर आईटीओ क्रॉसिंग पर रखा है और पुलिस को शव पोस्टमॉर्टम के लिए नहीं ले जाने दे रहे हैं। किसानों ने वहां मौजूद मीडिया कर्मियों पर भी हमला किया। उल्लेखनीय है कि प्रदर्शनकारी किसानों की राष्ट्रीय राजधानी के कई स्थानों पर पुलिस के साथ झड़प हुई और सैकड़ों किसान पूर्व निर्धारित मार्ग से हटकरऐतिहासिक लाल किले के परिसर एवं शहर के केंद्र आईटीओ पहुंच गए जिससे सुरक्षा कर्मियों को लाठी चार्ज करना पड़ा एवं आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। आईटीओ पर उस समय अराजकता का माहौल देखने को मिला जब डंडो से लैस सैकड़ों प्रदर्शनकारी पुलिस कर्मियों को दौड़ाते नजर आए और वहां पुलिस द्वारा खड़ी की गई बसों को ट्रैक्टर से धकेलते दिखे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।