मध्य प्रदेश के पीडब्ल्यूडी मंत्री ने निकाली डॉक्टर की भर्ती, जेब से देंगे दो लाख वेतन

मध्य प्रदेश के पीडब्ल्यूडी मंत्री ने निकाली डॉक्टर की भर्ती, जेब से देंगे दो लाख वेतन

उल्लेखनीय है कि मंत्री गोपाल भार्गव ने अपने क्षेत्र में कोविड मरीजों की बेहतर उपचार व्यवस्था के लिए 70 बिस्तर वाला अस्पताल भी बनाया है। इस समय यहां पर 40 मरीजों का इलाज किया जा रहा है। इस अस्पताल में प्राइवेट हॉस्पिटल जैसी सभी सुविधाएं मौजूद हैं।

सागर। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति भयावह बनी हुई है। कोरोना के चलते चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था के बीच अस्पतालों में स्टॉफ की कमी होने से जहाँ लोग परेशान हो रहे है। वही प्रदेश सरकार के लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव ने अपने क्षेत्र गढ़ाकोटा में कोविड सेंटर के लिए विशेषज्ञ डॉक्टरों की वैकेंसी निकाली है। मंत्री भार्गव ने इसके लिए डॉक्टर को दो लाख रुपये वेतन स्वयं द्वारा दिए जाने की बात कही है। 

 

इसे भी पढ़ें: रायसेन के गैरतगंज में दो दिन से लापता दो युवकों के कुएं में मिले शव

शिवराज सरकार में पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव ने अपने क्षेत्र सागर में अस्थाई अस्पताल बनाने के बाद कोविड केयर सेंटर के लिए भर्ती निकाली है। इसके लिए वे डॉक्टर को लाखों का पैकेज देने के साथ कई अन्य सुविधाएं भी दे रहे हैं। मंत्री ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर एक पोस्टर भी जारी किया है। इसमें उन्होंने लिखा है कि एक डॉक्टर, एम.डी (मेडिसीन) की कोविड केयर सेंटर गढ़ाकोटा, जिला सागर में तुरंत आवश्यकता है। इसके लिए डॉक्टर को हर महीने 2 लाख रुपये दिए जाएंगे। साथ ही डॉक्टर के लिए मेरी ओर से रहने के लिए आवास, भोजन एवं लग्जरी गाड़ी की भी व्यवस्था की जाएगी।

 

इसे भी पढ़ें: निगरानी टीम घर-घर जाकर करेगी कोरोना संदिग्धों की जांच घर-घर करेंगी

उल्लेखनीय है कि मंत्री गोपाल भार्गव ने अपने क्षेत्र में कोविड मरीजों की बेहतर उपचार व्यवस्था के लिए 70 बिस्तर वाला अस्पताल भी बनाया है। इस समय यहां पर 40 मरीजों का इलाज किया जा रहा है। इस अस्पताल में प्राइवेट हॉस्पिटल जैसी सभी सुविधाएं मौजूद हैं।  वही अस्पताल में सीटी स्कैन से लेकर तमाम तरह की जांचों पर मरीजों से पैसा भी नहीं लिया जा रहा है। जहाँ एक ओर पूरे प्रदेश में कोविड संक्रमण को लेकर शिवराज सरकार 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।