द क्विंट के मालिक के घर-दफ्तर पर IT का छापा, बहल बोले- संवेदनशील सामग्री न छुएं

By अनुराग गुप्ता | Publish Date: Oct 11 2018 2:37PM
द क्विंट के मालिक के घर-दफ्तर पर IT का छापा, बहल बोले- संवेदनशील सामग्री न छुएं

गुरूवार की सुबह नोएडा की फिल्म सिटी में आयकर विभाग की मौजूदगी देखी गई। बताया जा रहा है कि ''द क्विंट'' के सह-संस्थापक राघव बहल के घर और दफ्तर पर छापेमारी की गई।



नयी दिल्ली। गुरूवार की सुबह नोएडा की फिल्म सिटी में आयकर विभाग की मौजूदगी देखी गई। बताया जा रहा है कि 'द क्विंट' के सह-संस्थापक राघव बहल के घर और दफ्तर पर छापेमारी की गई। दरअसल, राघव बहल पर कथित तौर पर टैक्स चौरी का आरोप लगाया गया है। तड़के सुबह आयकर विभाग की टीम बहल के घर और दफ्तर पर पहुंची और दस्तावेजों की पड़ताल करने लगी।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक राघव बहल के नोएडा स्थित आवास पर आयाकर विभाग की टीम पहुंची और पूरे परिसर की तालाशी ली। इसके अतिरिक्त उन्होंने टैक्स चोरी से जुड़े हुए दस्तावेजों को खंगाला। 

जिसके बाद राघव बहल ने औपचारिक तौर पर एक बयान जारी किया और कहा कि मैं इस मामले को एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के समक्ष उठाउंगा। उन्होंने आगे कहा कि जब मैं मुंबई था तो कैसे सुबह-सुबह आयकर विभाग के दर्जनों अधिकारी मेरे घर और द क्विंट के दफ्तर पर सर्वे के लिए पहुंचे। हम पूरी तरह से टैक्स चुकाते हैं। हम अधिकारियों को सभी दस्तावेज उपलब्ध कराएंगे।

बहल ने आगे कहा कि मैंने एक अधिकारी से बातचीत की और उनसे अनुरोध किया कि वह किसी भी अन्य मेल या दस्तावेज को न देखें और उठाएं, जिसमें बेहद संवेदनशील पत्रकारिता की सामग्री हो। अगर वह ऐसा करेंगे तो हम उनका जमकर विरोध करेंगे। 

राघव बहल ने इसी के साथ उम्मीद जाहिर करते हुए कहा कि मुझे लगता है कि एडिटर्स गिल्ड इस मामले पर मुझे सपोर्ट करेगा। मैंने अधिकारियों से अनुरोध किया है कि वह अपने स्मार्टफोन का प्रयोग कर अनाधिकारिक तौर पर किसी भी प्रति की फोटो ने लें। मैं दिल्ली लौट रहा हूं।



बता दें कि राघव बहल के आवास और दफ्तर पर जब पड़ताल हो रही थी वह मुंबई में थे। वहीं, दूसरी तरफ जब एक संवाददाता ने केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से जब द क्विंट के दफ्तर पर छापेमारी से छुड़े सवाल पूछे गए तो उन्होंने कहा कि मुझे देखना पड़ेगा वह कौन सा मीडिया हाऊस है। उसकी वजह क्या है मुझे फिलहाल मालूम नहीं। मेरे मुताबिक हम पूरी तरह से लोकतंत्र की आजादी के पक्षघर हैं। हम लोगों ने अपातकाल का विरोध किया है। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Related Video