राहुल गांधी ने नोटबंदी को व्यापारियों पर आर्थिक हमला बताया

Rahul Gandhi speech
प्रतिरूप फोटो
ANI
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने नोटबंदी के कदम को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि यह व्यापारियों पर एक वित्तीय हमला था, जिससे उनका नकदी प्रवाह प्रभावित हुआ और उनके कारोबार तबाह हो गए।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने नोटबंदी के कदम को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि यह व्यापारियों पर एक वित्तीय हमला था, जिससे उनका नकदी प्रवाह प्रभावित हुआ और उनके कारोबार तबाह हो गए। गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छोटे और मध्यम व्यवसायों पर नोटबंदी के परिणामों से अच्छी तरह वाकिफ थे। कांग्रेस नेता गांधी ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के तहत त्रिशूर जिले के चालकुडी में एक विशाल जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

आज की यात्रा में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित कांग्रेस के अन्य वरिष्ठ नेता शामिल हुए। गांधी ने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने आठ नवंबर, 2016 को 500 और 1,000 रुपये के नोट को बंद कर दिया था और आम लोगों को इन नोट को 30 दिसंबर, 2016 तक बैंक खातों में जमा करने के लिए कहा था। गांधी ने दावा किया कि बहुत से लोग सोचते हैं कि नोटबंदी प्रधानमंत्री द्वारा की गई एक ‘‘गलती’’ थी और वह (प्रधानमंत्री) वास्तव में इसके परिणामों से वाकिफ नहीं थे।

कांग्रेस नेता गांधी ने कहा, ‘‘भाइयों और बहनों, यह सच नहीं है। प्रधानमंत्री जानते थे कि वास्तव में नोटबंदी से क्या होने जा रहा है। नोटबंदी, भारत के व्यापारियों पर एक वित्तीय हमला था। यह आपके नकदी प्रवाह को प्रभावित करने और आपके व्यवसाय को बर्बाद करने के लिए किया गया था।’’ उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘नरेंद्र मोदी अच्छी तरह से समझते हैं कि यदि आप एक छोटे व्यापारी या रेस्तरां के मालिक हैं और यदि वह कुछ दिनों के लिए आपके पैसे के प्रवाह में बाधा डाल देते हैं, तो आप समाप्त हो जाएंगे।’’

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि माल एवं सेवा कर (जीएसटी) को छोटे और मझोले व्यापारियों की कमर तोड़ने के लिए लाया गया है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी देश में पांच-छह बड़े उद्योगपतियों को व्यापार करने की अनुमति देते हैं। गांधी ने दावा किया कि भारत पिछले 70 वर्षों में बेरोजगारी की उच्चतम दर और दशकों में सबसे अधिक मुद्रास्फीति का सामना कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे लोग कर्ज, महंगाई और बेरोजगारी का सामना कर रहे हैं। भारत का कर्ज 2014 में 50 लाख करोड़ रुपये था, जो 2022 में बढ़कर 139 लाख करोड़ रुपये हो गया और यदि आप प्रति व्यक्ति ऋण की गणना करते हैं, तो प्रत्येक व्यक्ति पर एक लाख रुपये बकाया है।’’

कांग्रेस की 3,570 किलोमीटर और 150 दिन लंबी ‘भारत जोड़ो यात्रा’ सात सितंबर को तमिलनाडु के कन्याकुमारी से शुरू हुई थी, जो जम्मू-कश्मीर में संपन्न होगी। ‘भारत जोड़ो यात्रा’ 10 सितंबर की शाम को केरल पहुंची थी और यह एक अक्टूबर को कर्नाटक में प्रवेश करने से पहले 19 दिनों में केरल के सात जिलों से गुजरते हुए 450 किलोमीटर की दूरी तय करेगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़