• राहुल ने लोकसभा में अपने लोकसभा क्षेत्र के लंबितल परियोजना का मुद्दा उठाया

राहुल गांधी ने नंचनगुड़-वायनाड़-निलंबूर रेल लाइन परियोजना के पूरा होने का मुद्दा लोकसभा में उठाते हुए कहा कि ये परियोजना वायनाड के लोगों का सपना रही है। इस परियोजना के पूरा हो जाने से बेंगलुरू और त्रिवेंद्रम के बीच यात्रा का समय घट जाएगा और वायनाड के लोगों को बहुत फायदा होगा।

नयी दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड से जुड़ी नंचनगुड़-वायनाड़-निलंबूर रेल लाइन परियोजना के काफी समय से लंबित होने का मुद्दा बुधवार को लोकसभा में उठाया और कहा कि सरकार को इसे जल्द पूरा करना चाहिए। गांधी ने सदन में नियम 377 के तहत यह मुद्दा उठाया और कहा कि इस परियोजना के पूरा होने से उनके संसदीय क्षेत्र के लोगों को बहुत फायदा होगा।

इसे भी पढ़ें: मोदी हमारी ताकत हैं जबकि राहुल गांधी कांग्रेस की कमजोरी हैं: शाहनवाज हुसैन

उन्होंने कहा कि नंचनगुड़-वायनाड़-निलंबूर रेल लाइन वायनाड के लोगों का सपना रही है। यह परियोजना कई वर्षों से लंबित है। गांधी ने कहा कि इस परियोजना के पूरा हो जाने से बेंगलुरू और त्रिवेंद्रम के बीच यात्रा का समय घट जाएगा और वायनाड के लोगों को बहुत फायदा होगा। सरकार को इस जल्द पूरा करने के लिए कदम उठाना चाहिए।कांग्रेस के अब्दुल खालिक ने कहा कि अब असम को एनआरसी की प्रक्रिया के तहत नहीं लाया जाए और एनआरसी से बाहर रह गए भारतीय नागरिकों को इसमें शामिल किया जाए।भाजपा की पूनम महाजन ने कहा कि देश में कृत्रिम मांस के चलन को बढ़ावा दिया जाए क्योंकि दुनिया के कई देशों में इसका उपयोग बढ़ रहा है।भाजपा के राजेंद्र अग्रवाल, लॉकेट चटर्जी और कई अन्य सदस्यों ने 377 के तहत अलग अलग मुद्दे उठाए।