67 साल की रामकली को हुआ 28 साल के भोलू से प्यार, Live-In में रहने के लिए दोनों पहुंचे कोर्ट

67 साल की रामकली को हुआ 28 साल के भोलू से प्यार, Live-In में रहने के लिए दोनों पहुंचे कोर्ट
प्रतिरूप फोटो

मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में 67 साल की रामकली और 28 साल के भोलू को आपस में प्यार हो गया है। दोनों पहले से ही लिव इन में रह रहे हैं और अब आगे की जिंदगी बिना किसी दिक्कतों और मुसीबतों के साथ बिताना चाहते है और इसलिए दोनों ग्वालियर की एक अदालत में नोटरी बनवाया है।

कहते है जब प्यार होता है तो उम्र की कोई सीमा नहीं होती है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहां 67 साल की एक महिला को 28 साल के लड़के से इश्क हो गया है और अब दोनों साथ रहने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटा रहे है।मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में 67 साल की रामकली और 28 साल के भोलू को आपस में प्यार हो गया है। दोनों पहले से ही लिव इन में रह रहे हैं और अब आगे की जिंदगी बिना किसी दिक्कतों और मुसीबतों के साथ बिताना चाहते है और इसलिए दोनों ने ग्वालियर की एक अदालत में नोटरी बनवाया है। रामकली और भोलू ने कहा कि, दोनों एक-दूसरे से प्यार करते हैं और पिछले 6 सालों से एकसाथ लिवइन में रहे रहें और आगे भी साथ रहना चाहते हैं।

इसे भी पढ़ें: आकाश में छाने को तैयार राकेश झुनझुनवाला की अकासा, जानिए विमान कब से भरेंगे उड़ान?

दोनों बालिग हैं और भविष्य में किसी विवाद में नहीं पड़ने के लिए दोनों ने अपने रिश्तों को और मजबूती देने का फैसला किया है और इसी कारण से दोनों नो कोर्ट आकर नोटरी बनवाई है। वकील दिलीप अवस्थी के मुताबिक, कपल मुरैना जिले के कैलारस के रहने वाला है और दोनों ही एक-दूसरे से बहुत प्यार करते हैं और साथ रहना चाहते हैं। दोनों शादी नहीं करना चाहते है लेकिन लिव इन रिलेशन में रहना चाहते है जिसके लिए दोनों ने नोटरी करवाई है। नोटरी के लिए दोनों ने ग्वालियर के जिला न्यायालय में लिव इन रिलेशन रहने के लिए अपने दस्तावेज पेश किए हैं। हालांकि, कानूनी रूप से ऐसे नोटरी बनवाने की जरूरत नहीं होती है। कांटेक्ट एक्ट केवल इस्लाम में मान्य होता है और यह हिंदू विवाह के श्रेणी में नहीं आता है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।