CM की रेस में शामिल राउत बोले- भगवान इंद्र का सिंहासन मिले तब भी बीजेपी के साथ नहीं जाएंगे

CM की रेस में शामिल राउत बोले- भगवान इंद्र का सिंहासन मिले तब भी बीजेपी के साथ नहीं जाएंगे

संजय राउत ने कहा कि तीनों पार्टियों की आज बैठक होनी है, जिसमें सभी मसलों पर फाइनल मुहर लग जाएगी। साथ ही राउत ने कहा कि जब राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है तो ऐसे में राज्यपाल से मिलने की क्या जरूरत है। बीजेपी के साथ जाने की बात पर भी राउत ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भगवान इंद्र का सिंहासन मिले तब भी शिवसेना बीजेपी के साथ नहीं आएगी।

महाराष्ट्र के सियासी घमासान के बीच शिवसेना को मुख्यमंत्री देने की बात पर कांग्रेस और एनसीपी मान गई है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक उद्धव ठाकरे के नाम पर कांग्रेस और एनसीपी दोनों राजी है। वहीं ऐसी भी अटकलें लगाई जा रही हैं कि उद्धव के सीएम बनने से इंकार के बाद संजय राउत का नाम शिवसेना की तरफ से आगे किया जा सकता है। शिवसेना के बयानबहादुर और भाजपा को  जमकर लताड़ लगाने वाले राउत ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हर कोई चाहता है कि उद्धव ठाकरे ही मुख्यमंत्री का पद संभालें। सिर्फ शिवसेना में ही नहीं बल्कि तीनों पार्टियों की यही मांग है।

राउत ने कहा कि तीनों पार्टियों की आज बैठक होनी है, जिसमें सभी मसलों पर फाइनल मुहर लग जाएगी। साथ ही राउत ने कहा कि जब राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है तो ऐसे में राज्यपाल से मिलने की क्या जरूरत है। बीजेपी के साथ जाने की बात पर भी राउत ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भगवान इंद्र का सिंहासन मिले तब भी शिवसेना बीजेपी के साथ नहीं आएगी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।