• मास्को एयर शो में पहली बार भाग लेंगे भारतीय वायुसेना के सारंग हेलीकॉप्टर

मंत्रालय ने कहा कि इन हेलीकॉप्टरों का निर्माण हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा किया गया है और यह अत्याधुनिक एवियोनिक्स से लैस हैं। भारतीय वायु सेना के अलावा भारतीय सेना, भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक भी ध्रुव हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल करते हैं।

नयी दिल्ली। भारतीय वायु सेना की सारंग हेलीकॉप्टर एरोबेटिक टीम रूस में मंगलवार से शुरू होने वाले एमएकेएस अंतरराष्ट्रीय एयर शो में पहली बार शिरकत करेगी। यह एयर शो दो साल में एक बार आयोजित होता है और इस साल इसका आयोजन 20 जुलाई से 25 जुलाई के बीच जुकोवस्की हवाई अड्डे पर किया जा रहा है। रक्षा मंत्रालय की ओर से कहा गया, “यह पहली बार है जब सारंग की टीम रूस में अपने चार हेलीकॉप्टरों के साथ एरोबेटिक्स प्रदर्शन करेगी।

इसे भी पढ़ें: जम्मू वायु सेना स्टेशन पर हमले की जांच में सीमा पार आयुध फैक्टरी की संलिप्तता के संकेत : डीजीपी

इसमें भारत में निर्मित ‘ध्रुव’ उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर शामिल होंगे।” मंत्रालय ने कहा कि इन हेलीकॉप्टरों का निर्माण हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा किया गया है और यह अत्याधुनिक एवियोनिक्स से लैस हैं। भारतीय वायु सेना के अलावा भारतीय सेना, भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक भी ध्रुव हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल करते हैं। सारंग दल का 2003 में बेंगलुरु में गठन किया गयाथा और इसने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शन सिंगापुर में 2004 में एशियाई एयरोस्पेस एयरशोमेंकिया।