मध्य प्रदेश में जल्द खुल सकते हैं स्कूल, सरकार कर रही मंथन

School re-open
प्रतिरूप फोटो
सुयश भट्ट । Jun 24, 2021 1:03PM
मध्य प्रदेश में स्कूल कॉलेज अभी भी बंद है और ऐसे में जुलाई के पहले सप्ताह में इनको खोले जाने की उम्मीद जताई जा रही है। प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन जल्द से जल्द स्कूल खोलने की मांग कर रही है। तो शिक्षक पालक संघ का भी कहना है कि स्कूल खोले जाएं लेकिन कुछ नियमों के साथ।

भोपाल। मध्य प्रदेश में स्कूल कॉलेज अभी भी बंद है और ऐसे में जुलाई के पहले सप्ताह में इनको खोले जाने की उम्मीद जताई जा रही है। इसकी मांग को लेकर तमाम Private School Association भी एकजुट है। प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन जल्द से जल्द स्कूल खोलने की मांग कर रही है। तो शिक्षक पालक संघ का भी कहना है कि स्कूल खोले जाएं लेकिन कुछ नियमों के साथ।

बता दें कि प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष अजीत सिंह ने कहा है कि उन्होंने 1 जुलाई से स्कूल खोलने को लेकर पहले भी शिक्षा मंत्री और तमाम लोगों से मुलाकात की है। अजीत सिंह ने कहा कि एक ओर करोना काल में प्राइवेट स्कूलों को कई तरह से हानि हुई है और अब बच्चों की पढ़ाई का भी नुकसान हो रहा है। ऐसे में जल्द से जल्द स्कूल खोले जाने की मांग की है।

इसे भी पढ़ें:उज्जैन कलेक्टर का फरमान, वैक्सीन न लगवाने वाले सरकारी कर्मचारियों को नही मिलेगी सैलरी 

वहीं सरकार भी नहीं चाहती कि कोरोना के कारण बच्चों की पढ़ाई का नुकसान हो। लेकिन सरकार करोना की तीसरी लहर को देखते हुए अपने दायित्व से पीछे भी नहीं हटना चाह रही। स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि सरकार ने इसको लेकर तमाम सुझाव मांगे थे। प्राइवेट स्कूल और पालक संघ से भी चर्चा हुई है, लेकिन इसका निर्णय 1 जुलाई के बाद ही बैठक कर लिया जाएगा।

दरअसल, मध्य प्रदेश में  99 हजार सरकारी स्कूल है। जो कक्षा 1 से लेकर 12वीं तक संचालित होते हैं। वहीं प्राइवेट स्कूलों की संख्या 44 हजार है। इसमें कुल बच्चों की संख्या एक करोड़ 56 हजार है। 96 लाख बच्चे सरकारी स्कूलों में हैं, तो प्राइवेट स्कूलों में बच्चों की संख्या 60 लाख के करीब है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़