खत्म नहीं हुई कोविड की दूसरी लहर, संक्रमण के खिलाफ वैक्सीनेशन ही एक मात्र उपाय: हर्षवर्धन

Harsh Vardhan
अनुराग गुप्ता । Jun 29, 2021 12:23PM
केंद्रीय मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि कोविड की दूसरी लहर अभी समाप्त नहीं हुई है। अभी भी देश में इसके मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे वक्त में किसी को भी शिथिल (रिलैक्स) नहीं होना है।

नयी दिल्ली। कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर ने हाहाकार मचाया हुआ था। हालांकि संक्रमण के मामलों में कमी आने के साथ ही राज्यों ने अनलॉक की प्रक्रिया शुरू कर दी है और कई राज्यों से भीड़भाड़ वाली तस्वीरें सामने आ रही हैं। इसी बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन का ऐसा बयान सामने आया है, जिस पर गौर करना बेहद ही जरूरी है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ वैक्सीन लेकर ही सफलता हासिल की जा सकती है। 

इसे भी पढ़ें: टीके से युवाओं की हो रही मौत ? वैक्सीन पर बोले प्रशांत भूषण- मैं नहीं लगवाऊँगा 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक केंद्रीय मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि कोविड की दूसरी लहर अभी समाप्त नहीं हुई है। अभी भी देश में इसके मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे वक्त में किसी को भी शिथिल (रिलैक्स) नहीं होना है। अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीन की डोज़ लगाकर हम कोविड संक्रमण पर सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

इस दौरान उन्होंने कहा कि पिछले डेढ़ साल का अनुभव बताता है कि हमें आराम से नहीं बैठना चाहिए। लोगों और समाज को भी आराम नहीं करने देना चाहिए और हमें सतर्क रहना होगा।

इसे भी पढ़ें: बिहार में स्कूल खोलने की तैयारी, शिक्षा मंत्री बोले- जिनके पास फोन नहीं उनके लिए टीवी के जरिए शुरू होंगी कक्षाएं  

क दिन में 37,566 नए मामले दर्ज

देश में एक दिन में कोविड-19 के 37,566 नए मामले सामने आए। जिसके बाद संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,03,16,897 हो गई। वहीं, लगातार दूसरे दिन संक्रमण से मौत के एक हजार से कम मामले सामने आए। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश में 907 और लोगों की संक्रमण से मौत के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 3,97,637 हो गई। पिछले 77 दिन में संक्रमण से मौत के ये सबसे कम मामले सामने आए हैं। वहीं देश में अभी तक वैक्सीन की 32.90 करोड़ डोज लगाई जा चुकी हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़