अलगाववादी आहूत बंद के कारण जम्मू-कश्मीर में जनजीवन प्रभावित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 28, 2019   12:49
अलगाववादी आहूत बंद के कारण जम्मू-कश्मीर में जनजीवन प्रभावित

अलगाववादी संगठनों के संयुक्त संगठन ज्वाइंट रेसिस्टेंस लीडरशिप (जेआरएल) ने अलगाववादियों पर मंगलवार को एनआईए की छापेमारी और अनुच्छेद 35 ए में छेड़छाड़ की आशंका के विरोध में बुधवार से पूर्ण बंद का आह्वान किया हुआ है।

श्रीनगर। अलगाववादियों के दो दिवसीय बंद के कारण बृहस्पतिवार को लगातार दूसरे दिन कश्मीर में जनजीवन प्रभावित हुआ। यह बंद घाटी में हवाला के जरिए आतंकी वित्तपोषण की जांच के सिलसिले में कई अलगाववादी नेताओं के आवास पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की छापेमारी के विरोध में किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि जम्मू कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर में अधिकतर दुकान और अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे। हालांकि, उन्होंने बताया कि अधिकतर पेट्रोल पंप खुले हुये हैं और ग्राहकों की भारी भीड़ देखने को मिल रही है। घाटी में बुधवार रात में ईंधन की आपूर्ति फिर से बहाल कर दी गई है।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान पर एयर स्ट्राइक के बाद कश्मीर में भी सख्ती, अलगाववादियों के ठिकानों पर NIA के छापे

अधिकारियों ने बताया कि घाटी के अन्य जिला मुख्यालयों से भी बंद की इसी तरह की खबरें सामने आई हैं। अलगाववादी संगठनों के संयुक्त संगठन ज्वाइंट रेसिस्टेंस लीडरशिप (जेआरएल) ने अलगाववादियों पर मंगलवार को एनआईए की छापेमारी और अनुच्छेद 35 ए में छेड़छाड़ की आशंका के विरोध में बुधवार से पूर्ण बंद का आह्वान किया हुआ है। अनुच्छेद 35 ए का मामला उच्चतम न्यायालय में लंबित है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।