संजय राउत का दावा, शिंदे के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार का आधार मजबूत नहींं

Sanjay Raut
ANI
भाजपा की महाराष्ट्र इकाई के प्रमुख चंद्रकांत पाटिल ने इससे पहले शनिवार को कहा था कि पार्टी ने (पूर्व मुख्यमंत्री) देवेंद्र फडणवीस के बजाय शिवसेना के बागी नेता शिंदे को राज्य का मुख्यमंत्री बनाने का भारी मन से निर्णय लिया था।
मुंबई। शिवसेना सांसद संजय राउत ने रविवार को दावा किया कि एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार का आधार मजबूत नहीं है और यह अपने ही अंतर्विरोध के कारण गिर जाएगी। राउत ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम भारतीय जनता पार्टी की तरह लाउडस्पीकर पर तारीख नहीं देंगे। लेकिन यह सरकार निश्चित रूप से लंबे समय तक चलने वाली नहीं है।’’ शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता राउत ने कहा कि शिंदे सरकार के गठन के लगभग एक महीने बाद भी किसी विभाग का आवंटन नहीं किया गया है। राउत ने रविवार को दावा किया, ‘‘चोरी छिपे गठित की गई दोहरा मानदंड रखने वाली यह सरकार अपने ही अंतर्विरोध से गिर जाएगी। यह मजबूत नींव पर टिकी हुई नहीं है।’’ 

इसे भी पढ़ें: लगातार शिवसेना पर कमजोर होती पकड़ के बीच फिर से बैकफुट पर 'ठाकरे'? बागी नेताओं के लिए आदित्य ने दिया खास संदेश

भाजपा की महाराष्ट्र इकाई के प्रमुख चंद्रकांत पाटिल ने इससे पहले शनिवार को कहा था कि पार्टी ने (पूर्व मुख्यमंत्री) देवेंद्र फडणवीस के बजाय शिवसेना के बागी नेता शिंदे को राज्य का मुख्यमंत्री बनाने का भारी मन से निर्णय लिया था। फडणवीस द्वारा राउत को एक ऐसा ‘लाउडस्पीकर’ बताने जिससे लोग आजिज आ गये हैं, शिवसेना सांसद ने कहा कि उनका ‘‘लाउडस्पीकर महाराष्ट्र के लोगों की आवाज है’’ और वह उनके विचारों को प्रकट करना जारी रखेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘यहां तक कि फडणवीस भी मेरा लाउडस्पीकर सुनते हैं। हमें जो कुछ कहने की जरूरत होती है निर्भिक होकर कहते हैं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘शिवसेना का लाउडस्पीकर 56 वर्षों से बज रहा है और लोग हमेशा यह जानने को उत्सुक रहते हैं कि यह क्या बोल रहा है।’’ 

इसे भी पढ़ें: 'मुर्गा लड़ा रही है बीजेपी', उद्धव ठाकरे बोले- तीर चलाने के लिए जो धनुष चाहिए वह मेरे पास ही है

शिवसेना नेता ने कहा, ‘‘आप अपनी सरकार को देखिए। आप दिल्ली कितनी बार जाते हैं? एक महीने बाद भी विभागों का बंटवारा नहीं हुआ है।’’ शिवसेना के साथ पूर्व में भाजपा के सरकार बनाने संबंधी फडणवीस के बयान को लेकर राउत ने उन पर निशाना साधा। उन्होंने सवाल किया, ‘‘वह किस शिवसेना की बात कर रहे हैं? क्या (पार्टी संस्थापक) बालासाहेब और उद्धव ठाकरे के बिना शिवसेना हो सकती है? उन्होंने कहा कि शिवसैनिकों और महाराष्ट्र के लोगों में इसे लेकर रोष है कि बालासाहेब के बेटे को धोखा दिया गया और मुख्यमंत्री पद छोड़ने के लिए मजबूर किया गया। राउत ने कहा, ‘‘शिवसैनिकों के गुस्से और आंसुओं में यह सरकार बह जाएगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़