शिवसेना ने भ्रष्ट कांग्रेस के साथ जाकर लोगों को धोखा दिया: प्रकाश जावड़ेकर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2019   16:28
शिवसेना ने भ्रष्ट कांग्रेस के साथ जाकर लोगों को धोखा दिया: प्रकाश जावड़ेकर

जावड़ेकर ने यह भी कहा कि कांग्रेस अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की विरोधी है, फिर भी शिवसेना ने उसके साथ हाथ मिलाने का फैसला किया।

पुणे। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में दूसरी बार कमान संभालने के लिए देवेंद्र फड़णवीस को बधाई देते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शनिवार को कहा कि ‘‘भ्रष्टाचार का पर्यायवाची’’ बन चुकी कांग्रेस के साथ जाकर शिवसेना ने राज्य के लोगों को धोखा दिया।

जावड़ेकर ने यह भी कहा कि कांग्रेस अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की विरोधी है, फिर भी शिवसेना ने उसके साथ हाथ मिलाने का फैसला किया। फड़णवीस ने शनिवार की सुबह महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और अजित पवार ने उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली।इस घटनाक्रम से राजनीतिक गलियारों में भूचाल आ गया है क्योंकि शविसेना, राकांपा और कांग्रेस राज्य में सरकार बनाने के लिए पिछले कुछ दिन से चर्चा कर रही थीं। राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने घोषणा भी कर दी थी कि मुख्यमंत्री पद के लिए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे तीनों दलों की पसंद हैं। 

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल का जावड़ेकर को जवाब, कहा- राजनीति छोड़, प्रदूषण के खिलाफ काम करने का है समय

जावड़ेकर ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘देवेंद्र फड़णवीस को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनने की बधाई और मुख्यमंत्री बनना लोगों के जनादेश का सम्मान करना है।’’ उन्होंने कहा कि (शिवसेना और कांग्रेस) द्वारा पकाई जा रही खिचड़ी लोगों के जनादेश के खिलाफ थी। जावड़ेकर ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘लोगों ने भाजपा गठबंधन को वोट दिया था। शिवसेना ने लोगों और जनादेश को धोखा दिया तथा राम मंदिर और वीर सावरकर का विरोध करने वाली कांग्रेस के साथ जाने का फैसला किया। शिवसेना भ्रष्टाचार की पर्यायवाची और आपातकाल लगाने वाली कांग्रेस के साथ जाकर खुश थी।’’ मंत्री ने कहा, ‘‘शिवेसना का तर्क कितना बेतुका है-यदि शिवसेना राकांपा के साथ जाए तो ठीक, और यदि राकांपा के विधायक भाजपा के साथ आएं तो गलत। आज जिसका सम्मान हुआ, वह जनादेश है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।