फिर से शुरू हो रही दीनदयाल रसोई को लेकर विश्वास सारंग ने कांग्रेस पर साधा निशाना

Vishwas Sarang
हमारी सरकार गरीब की सरकार है इसलिए मुख्यमंत्री जी ने निर्णय लिया है, आज प्रदेश में 100 नई रसोई और चालू हो रही है। अगर जरूरत पड़ेगी तो हम गरीबों को भोजन उपलब्ध कराने की और व्यवस्था करेंगे।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को राजधानी भोपाल स्थित मिंटो हाल में दीनदयाल रसोई योजना फिर से शुरू करेंगे। दीनदयाल रसोई योजना के तहत प्रदेश में 100 रसोई केन्द्रों पर सरकार की तरफ से गरीब लोगों को खाना उपलब्ध कराया जायेगा। प्रदेश चिकित्सा शिक्षा मंत्री, विश्वास सारंग ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमारी सरकार का लक्ष्य है कि भाजपा की सरकार में किसी का भी पेट खाली नहीं रहेगा, इसलिए भाजपा की सरकार ने दीनदयाल रसोई के माध्यम से गरीबों को भोजन उपलब्ध कराया था। वह हमारा सफल प्रकल्प था। लेकिन पिछले 15 महीने कमलनाथ की सरकार आई, उन्होंने दीनदयाल रसोई बंद कर दी, क्योंकि उन्हें भ्रष्टाचार करके खुद का पेट भरना था। हमारी सरकार गरीब की सरकार है इसलिए मुख्यमंत्री जी ने निर्णय लिया है, आज प्रदेश में 100 नई रसोई और चालू हो रही है। अगर जरूरत पड़ेगी तो हम गरीबों को भोजन उपलब्ध कराने की और व्यवस्था करेंगे।

दिग्विजय सिंह पर तंज कस्ते हुए सारंग ने कहा, "दिग्विजय सिंह जी सोते, उठते, बैठते तथा खाते समय बीहई राजनीति करते हैं, उनका कोई भी कृत्य गैर राजनीतिक कैसे हो सकता है। देश में अराजकता फैलाना ही दिग्विजय सिंह जी की जिंदगी का लक्ष्य है। इसलिए उनके सारे कामों में विघटन की बात ना हो यह कैसे संभव है।"

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि इससे बड़ा दुर्भाग्य और क्या हो सकता है कि गांधी के नाम पर राजनीति करने वाले तथाकथित नेहरू परिवार के नेता है। इंदिरा गांधी का गांधी शब्द से क्या लेना देना था, प्रियंका गांधी, राहुल गांधी का गांधी शब्द से क्या लेना देना था, वह सिर्फ गांधी टोपी पहन कर अपने आप को गांधीवादी बताते है। लेकिन गांधीगिरी कह देने से नहीं होती, करने से होती है। जिस प्रकार का कृत्य ग्वालियर में हुआ है यह कांग्रेस के लिए केवल चुनावी बात है। गांधी के विचार, गांधी के व्यक्तित्व से कांग्रेस का कोई लेना देना नहीं है। कांग्रेस को व मीडिया का हमें जवाब नहीं देना अरुण यादव को ही कांग्रेस जवाब दे दे। गांधी को लेकर राजनीति करने वाले कांग्रेस के नेताओं को शर्म आनी चाहिए कि उन्होंने इस तरह का कृत्य किया है।

केबिनेट बैठक पर बात करते हुए उन्होंने कहा, "कैबिनेट की बैठक में हमारे एजेंडे पर हम बात करेंगे। भाजपा की सरकार कल्याण और विकास की राजनीति को आगे बढ़ाती है। कल्याणकारी राज्य तथा जनता के कल्याण के लिए हमें जो जो करना होगा वह हम करेंगे।"

विधानसभा के मुद्दों पर उन्होंने कहा, "कांग्रेसी विधानसभा का उपयोग भी अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए करती है। कांग्रेस के विधायक न अध्ययन करते हैं ना मेहनत करते हैं। जिन प्रश्नों के उत्तर से जानकारी एकत्रित की जा रही है यह उनके 15 महीनों के कारनामे के हैं क्योंकि उन्होंने 15 महीने में काफी भ्रष्टाचार किया है। हम देश के विकास तथा जनता के कल्याण के लिए विधानसभा का उपयोग करते हैं।" शहरों के नाम बदलने को लेकर सारंग कहते हैं कि यह हम सब के लिए खुशी की बात है कि गुलामी के प्रतीक को बदलने का श्रेय मैं मुख्यमंत्री जी को दूंगा। उन्होंने होशंगाबाद का नाम बदलकर नर्मदा पुरम करने का निर्णय लिया है। आगे भी हमारी सरकार गुलामी के प्रतीक जिनके कारण हम शर्मसार होते हैं उनका नाम बदला जाएगा।

प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर उन्होंने कहा, "अभी ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया है आज सीएम शिवराज सिंह के साथ समीक्षा बैठक होगी। हम सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें माक्स लगाएं तथा दूरी बनाए रखें। हमारी व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त है। मुख्यमंत्री जी लगातार समीक्षा का निर्देश देते हैं, जिसके अनुसार पूरे प्रदेश में व्यवस्थाएं कर रहे हैं।" बढ़ती महंगाई पर उन्होंने कहा कि, "यह सब अंतरराष्ट्रीय बाजार के कारण होता है हमारी सरकार में तो महंगाई लगातार कम हुई है अर्थव्यवस्था तथा बाधा ठीक हो इसके प्रयास लगातार किए जाएंगे।"

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़