पहाड़ों पर बर्फबारी से माइनस में लुढ़का पारा, यूपी समेत इन राज्यों में पड़ रही है भीषण सर्दी, जानें कब तक मिल सकेगी राहत

cold
अब भले ही मैदानी इलाकों में बारिश का अनुमान नहीं है, लेकिन 29 जनवरी के बाद पहाड़ों पर एक बार फिर बर्फबारी और हल्की बारिश शुरू हो सकती है। इसके अलावा भी मंगलवार को, बिहार, झारखंड, बंगाल और उड़ीसा में बारिश होने की संभावना है।

दिल्ली-एनसीआर, यूपी और हरियाणा समेत उत्तर भारत के कई राज्यों जोरदार सर्दी का कहर जारी है। इससे अभी निजात भी नहीं मिलने वाली है। मौसम विभाग का अनुमान है कि यह ठंड कुछ दिन और रह सकती है। दरअसल जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड की वादियों में बर्फबारी हो रही है। इसी का असर मैदानी इलाकों में शीत लहर के तौर पर देखा जा रहा है। मसूरी, मनाली और शिमला में तो तापमान माइनस 1 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया है। मैदानी इलाकों की भी बात की जाए तो दिल्ली में 6, जयपुर में 7 और भोपाल में 8 डिग्री सेल्सियस पारा दर्ज किया गया है।

इतना ही नहीं इस सर्दी का कहर यूपी के लखनऊ, प्रयागराज, झांसी और वाराणसी समेत सूबे के कई शहरों में जारी है। इस हाड़ कपा देने वाली ठंड के बीच मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले 2 से 3 दिन देश के उत्तर-पश्चिमी राज्यों में शीत लहर चलेगी जिसके कारण दिन और ठंडे रहेंगे। सर्द दिन उन्हें कहा जाता है जिसमें सीजन की सबसे ज्यादा ठंड दर्ज होती है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश और आसपास के इलाकों में पश्चिमी विक्षोभ का असर नजर आ रहा है। झारखंड, बिहार जैसे देश के पूर्वी राज्यों में भी सर्दी का कहर बहुत ज्यादा है। मौसम विभाग के मुताबिक मैदानी इलाकों में झारखंड से लेकर पंजाब तक वेस्टर्न डिस्टरबेंस सर नजर आ रहा है। इसी के चलते बारिश हुई है और सर्दी में भी इजाफा हुआ है।

अब भले ही मैदानी इलाकों में बारिश का अनुमान नहीं है, लेकिन 29 जनवरी के बाद पहाड़ों पर एक बार फिर बर्फबारी और हल्की बारिश शुरू हो सकती है। इसके अलावा भी मंगलवार को, बिहार, झारखंड, बंगाल और उड़ीसा में बारिश होने की संभावना है। अगले 5 दिनों तक हल्की बारिश की संभावना है। यही कारण है कि मौसम विभाग ने इस महीने के आखिर तक जबरदस्त ठंड जारी रहने का अनुमान जताया है। दिल्ली में भी जनवरी की बारिश ने 122 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। आपको बता दें कि लोगों को कई वर्षों से भीषण सर्दी झेलनी पड़ रही है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़