शक्तिपीठ ज्वालामुखी में शरदीय नवरात्र मेला के दौरान प्रशासन श्रद्धालुओं की सुविधा का खास ख्याल रख रहा एसडीएम धनवीर ठाकुर

शक्तिपीठ ज्वालामुखी में शरदीय नवरात्र मेला के दौरान प्रशासन श्रद्धालुओं की सुविधा का खास ख्याल रख रहा  एसडीएम धनवीर ठाकुर

उन्होंने बताया कि ज्वालामुखी विश्वप्रसिद्ध धार्मिक स्थल है, तथा देश-विदेश के श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र होने के कारण यहां नवरात्र मेलों में श्रद्धालू बड़ी संख्या में आते हैं। उन्होंने कहा कि इस वर्ष भी कोरोना का संकट हमारे बीच से गया नहीं है। इस गंभीरता को ध्यान में रखते हुए इन मेलों का आयोजन भी सरकार द्वारा निर्धारित मानक संचालन प्रक्रिया के तहत किया जाएगा।

ज्वालामुखी । ज्वालामुखी के एसडीएम धनवीर ठाकुर ने कहा कि सुप्रसिद्ध शक्तिपीठ ज्वालामुखी में आज  शरदीय नवरात्र मेला के दूसरे दिन  सुबह से ही ज्वालामुखी मंदिर में बडी तादाद में श्रद्धालु आ रहे हैं। व पूरा प्रयास किया जा रहा है कि उन्हें आसानी से दर्शन हो सकें। 

 

इसे भी पढ़ें: महंगाई-बेरोजगारी के मुद्दे पर बगलें झांक रही सरकार-कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा-हार सामने देख अब धमकियां देने लगे हैं मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर

 

उन्होंने कोरोना   के बाद इस बार श्रद्धालुओं का आगन बढा है। उम्मीद है कि सातवें नवरात्र व अष्टमी के दिन तादाद बढ सकती हैं। इसके लिये पुख्ता इंतजाम किये जा रहे हैं।  श्रद्धालुओं की सुविधा का खास ध्यान रखा जा रहा है।  उन्होंने बताया कि ज्वालामुखी विश्वप्रसिद्ध धार्मिक स्थल है, तथा देश-विदेश के श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र होने के कारण यहां नवरात्र मेलों में श्रद्धालू बड़ी संख्या में आते हैं। उन्होंने कहा कि इस वर्ष भी कोरोना का संकट हमारे बीच से गया नहीं है। इस गंभीरता को ध्यान में रखते हुए इन मेलों का आयोजन भी सरकार द्वारा निर्धारित मानक संचालन प्रक्रिया के तहत किया जाएगा। आने वाले श्रद्धालू शारीरिक दूरी, मास्क, सफाई एवं सवच्छता का विशेष ध्यान रखें और किसी भी प्रकार की लापरवाही ना करें।

 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस के पास नहीं हैं चुनाव लड़ने के लिए कोई भी मुद्दा -भाजपा के सशक्त उम्मीदवारों के आगे चित हो गई कांग्रेस

 

 

उन्होंने कहा कि संक्रमण को रोकने के लिए भंडारे और लंगर पूर्ण रूप से बंद हैं। मंदिर में श्रद्धालुओं को कोविड प्रोटोकॉल की अनुपालना सुनिश्चित करना जरूरी है   

ठाकुर ने कहा प्रशासन द्वारा कोरोना मानकों को ध्यान में रखते हुए हर संभव व्यवस्था उपलब्ध करवाई जा रही है। नवरात्रों के दौरान मंदिर परिसर में मेडिकल हेल्प डेस्क भी स्थापित किया है। ताकि कोविड प्रोटोकॉल के साथ साथ श्रद्धालुओं के लिए उपचार की सुविधा दी जा सके। मंदिर में भजन, कीर्तन, जागरण पर पूर्णतया रोक है।    

इसे भी पढ़ें: नवरात्रि के दूसरे दिन मां के द्वितीय स्वरूप मां ब्रह्मचारिणी की पूजा- अर्चना की जाती है

उन्होंने कहा कि नवरात्र मेलों दौरान कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने तथा श्रद्धालुओं की सुरक्षा के दृष्टिगत प्रशासन ने नगर परिषद ज्वालामुखी की परिधि में हथियार, गोलाबारूद तथा विस्फोटक सामग्री साथ रखने एवं उपयोग पर प्रतिबंध लगाया है। नवरात्र मेला के दौरान 17 अक्तूबर, 2021 तक यह प्रतिबंध लागू रहेगा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।