कयासों पर विराम! जानें राजद के इफ्तार पार्टी में शामिल होने के एक दिन बाद नीतीश ने क्या कहा

कयासों पर विराम! जानें राजद के इफ्तार पार्टी में शामिल होने के एक दिन बाद नीतीश ने क्या कहा
ANI

नीतीश ने कहा कि इस तरह का आयोजन हम लोग की ओर से भी होता है। सरकार की ओर से भी हम लोग करवा रहे हैं। सभी पार्टियों को इसमें निमंत्रण दिया जाता है। दूसरी पार्टी के लोग भी इसमें सब को बुलाते हैं। कोई भी बुलाएगा और आमंत्रित करेगा तो जाते ही हैं। सम्मान तो व्यक्त करना ही चाहिए।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर आयोजित राष्ट्रीय जनता दल के इफ्तार पार्टी में शामिल हुए थे। इसके बाद से बिहार की राजनीति को लेकर तरह-तरह की बातें की जाने लगी। दावा किया जाने लगा कि नीतीश कुमार और आरजेडी की एक बार फिर से नजदीकियां बढ़ने लगे हैं। कुछ लोग तो यह भी कहने लगे कि बिहार में बड़ा खेला होने वाला है। इन सबके बीच आज एक बार फिर से नीतीश कुमार ने अपनी चुप्पी तोड़ी है। नीतीश कुमार ने कहा कि इस तरह के इफ्तार पार्टी में सभी लोगों को न्योता भेजा जाता है। इसका राजनीति से क्या संबंध है?

नीतीश ने कहा कि इस तरह का आयोजन हम लोग की ओर से भी होता है। सरकार की ओर से भी हम लोग करवा रहे हैं। सभी पार्टियों को इसमें निमंत्रण दिया जाता है। दूसरी पार्टी के लोग भी इसमें सब को बुलाते हैं। कोई भी बुलाएगा और आमंत्रित करेगा तो जाते ही हैं। सम्मान तो व्यक्त करना ही चाहिए। इसी दौरान नीतीश कुमार से सुशील मोदी के ट्वीट प्रतिक्रिया मांगी गई। इसके जवाब में नीतीश कुमार ने कहा कि यह तो वही बताएंगे। सुशील मोदी ने बोचहां में हुए उपचुनाव में भाजपा को मिली हार के बाद कुछ सुझाव दिए थे। 

इसे भी पढ़ें: क्या बिहार में बन रहे नए समीकरण? राबड़ी देवी की इफ्तार दावत में नीतीश के साथ चिराग भी हुए शामिल, तेजस्वी यादव ने कही यह अहम बात

दूसरी ओर तेजस्वी यादव ने कहा था कि हमने इफ़्तार पार्टी में शामिल होने का न्योता सभी पार्टी के नेताओं को दिया। चाहे भाजपा पार्टी के हो, VIP हो, LJP के हो, JDU के हो। यह तो परंपरा रही है कि हर दूसरे के इफ़्तार में हम लोग हमेशा शिरकत करते रहते हैं। बिहार सरकार में मंत्री शाहनवाज़ हुसैन ने कहा कि मैंने और सुशील मोदी जी ने इफ़्तार दिया था,वहां भी नीतीश कुमार आए थे। यहां तेजस्वी यादव ने इफ़्तार दिया है। हमें भी बुलाया गया था, हम आ गए। इसमें कोई राजनीतिक मामला निकालने की जरूरत नहीं है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।