सुरजेवाला ने बिजली संकट के लिए खट्टर सरकार पर साधा निशाना, बोले- भीषण गर्मी से पीड़ित हैं लोग

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 23, 2022   20:08
सुरजेवाला ने बिजली संकट के लिए खट्टर सरकार पर साधा निशाना, बोले- भीषण गर्मी से पीड़ित हैं लोग
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने दावा किया कि लोग हर दिन 12 घंटे या उससे अधिक की अप्रत्याशित बिजली कटौती के साथ भीषण गर्मी में पीड़ित हैं। उन्होंने कहा कि जुलाई और सितंबर के बीच राज्य में बिजली की मांग 12,000 मेगावाट तक पहुंच जाती है और राज्य में बिजली की 3,000 से 4,000 मेगावाट की कमी है।

चंडीगढ़। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने शनिवार को हरियाणा सरकार पर निशाना साधते हुए राज्य में ‘बिजली संकट’ के लिए उसे दोषी ठहराया तथा कहा कि भारी बिजली कटौती से लोग पेरशान हो रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि अपर्याप्त बिजली आपूर्ति के कारण किसानों के अलावा, खासकर अम्बाला, यमुनानगर, कुंडली, फरीदाबाद और गुरुग्राम के औद्योगिक क्षेत्र को भी भारी परेशानी उठानी पड़ी है। सुरजेवाला ने यहां मीडिया को सम्बोधित करते हुए कहा, ‘‘हरियाणा फिलहाल मांग और आपूर्ति के बीच के बड़े अंतर के कारण सबसे खराब बिजली संकट के दौर से गुजर रहा है।’’ 

इसे भी पढ़ें: हरियाणा के ज्यादातर हिस्सों में गर्मी का प्रकोप, पंजाब में पारा में मामूली कमी 

उन्होंने दावा किया, “लोग हर दिन 12 घंटे या उससे अधिक की अप्रत्याशित बिजली कटौती के साथ भीषण गर्मी में पीड़ित हैं।” उन्होंने कहा कि जुलाई और सितंबर के बीच राज्य में बिजली की मांग 12,000 मेगावाट तक पहुंच जाती है और राज्य में बिजली की 3,000 से 4,000 मेगावाट की कमी है। सुरजेवाला ने राज्य की भाजपा-जेजेपी सरकार से सवाल किया, “राज्य को अडानी पावर मुंद्रा से 1,424 मेगावाट बिजली क्यों नहीं मिल रही है और उसने 2021 से अनुबंधित बिजली की आपूर्ति नहीं करने के लिए कंपनी के खिलाफ क्या कार्रवाई की है?” 

इसे भी पढ़ें: चाचा ने घर में घुसकर भतीजी के साथ किया दुष्कर्म, अश्लील वीडियो बनाकर पैसे ऐंठता रहा 

उन्होंने कहा कि अडानी पावर और हरियाणा के बीच 2.94 रुपये प्रति यूनिट की दर से बिजली की खरीद के लिए 2008 में बिजली खरीद समझौता हुआ था। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने आगे राज्य सरकार पर बहुत अधिक दरों पर अल्पकालिक बिजली खरीदने और राज्य के खजाने पर अधिक बोझ डालने का आरोप लगाया। उन्होंने खट्टर सरकार पर पिछले आठ साल में एक भी यूनिट बिजली नहीं बढ़ाने का आरोप लगाया. कुछ दिन पहले हरियाणा के बिजली मंत्री रंजीत सिंह चौटाला ने कहा था कि राज्य में बिजली की कोई कमी नहीं है और सरकार को 12 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से राज्य के बाहर से बिजली खरीदनी पड़े तो भी बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।