इंदौर एयरपोर्ट पहुंची रेमडेसिविर की चौथी बड़ी खेप, राज्य के बड़े शहरों में होगी प्रदाय

इंदौर एयरपोर्ट पहुंची रेमडेसिविर की चौथी बड़ी खेप, राज्य के बड़े शहरों में होगी प्रदाय

इंदौर जिले में कोविड नियंत्रण हेतु मुख्यमंत्री चौहान द्वारा नियुक्त किए गए प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट ने भोपाल स्वास्थ्य विभाग एवं अन्य संबंधित अधिकारियों से चर्चा उपरांत बताया कि रेमडेसिवीर की इस चौथी खेप में प्रदेश को रेमडेसिविर इंजेक्शन के कुल 312 बॉक्स के साथ 24 लूस वाइअल प्राप्त होंगे।

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा कोविड संक्रमित मरीजों के उपचार हेतु संसाधनों की निरंतरता बनाए रखने एवं कोरोना मुक्त प्रदेश के निर्माण करने के अपने संकल्प को सार्थक रूप देने के लिए युद्ध स्तर पर सतत् प्रयास किए जा रहे हैं। इसी तारतम्य में शुक्रवार को प्रदेश में रेमडेसिविर की चौथी बड़ी खेप प्राप्त हुई है।

 

इसे भी पढ़ें: पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव, स्वास्थ्य में पहले से सुधार

इंदौर जिले में कोविड नियंत्रण हेतु मुख्यमंत्री चौहान द्वारा नियुक्त किए गए प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट ने भोपाल स्वास्थ्य विभाग एवं अन्य संबंधित अधिकारियों से चर्चा उपरांत बताया कि रेमडेसिवीर की इस चौथी खेप में प्रदेश को रेमडेसिविर इंजेक्शन के कुल 312 बॉक्स के साथ 24 लूस वाइअल प्राप्त होंगे। जिसमें से इंदौर को 69 रेमडेसिविर इंजेक्शन के बॉक्स के साथ 24 लूस वाइअल मिलेंगे। इसमें इंदौर मेडिकल कॉलेज को रेमडेसिवीर के 25 बॉक्स एवं 24 लूस वाइअल, 7 बॉक्स खंडवा मेडिकल कॉलेज और 37 बॉक्स इंदौर स्वास्थ्य विभाग को दिए जायेंगे।

 

इसे भी पढ़ें: पीड़ितों की सहायता के लिए प्रदेश अध्यक्ष ने जारी किया टोल फ्री नंबर भाजपा के ‘सेवा ही संगठन अभियान-2’ ने प्रदेश भर में पकड़ी रफ्तार

उन्होंने बताया कि इसी तरह प्रदेश की राजधानी भोपाल को 67 बॉक्स, ग्वालियर को 33 बॉक्स, सागर को 26 बॉक्स, उज्जैन को 45 बॉक्स,रीवा को 27 बॉक्स और जबलपुर को 45 बॉक्स पहले की तरह ही इंदौर एयरपोर्ट से स्टेट प्लेन, हेलीकॉप्टर एवं रोड के माध्यम से पहुंचाएं जायेंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।