देश के किसी भी कोने में कश्मीरी विद्यार्थियों को कोई खतरा नहीं: जावडेकर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 20, 2019   16:26
देश के किसी भी कोने में कश्मीरी विद्यार्थियों को कोई खतरा नहीं: जावडेकर

जम्मू कश्मीर प्रशासन ने राज्य से बाहर रह रहे विद्यार्थियों को सोमवार को किसी भी अफवाह पर ध्यान नहीं देने और अपने अपने स्थानों पर ही रहने की सलाह दी।

नयी दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर ने पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद कश्मीरी विद्यार्थियों पर किसी भी हमले की खबर से बुधवार को इनकार किया और कहा कि घाटी के छात्र-छात्राओं पर कोई खतरा नहीं है। जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को जैश ए मोहम्मद के आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गये थे।

जावडेकर ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘कश्मीरी विद्यार्थियों पर कोई खतरा नहीं है, जैसा कि पेश किया जा रहा है। देशवासी पुलवामा हमले से नाराज जरूर हैं लेकिन उसके बाद किसी भी कश्मीरी विद्यार्थी पर हमला नहीं हुआ है।’’ विभिन्न शहरों में कई कश्मीरी विद्यार्थियों पर पुलवामा आतंकवादी हमले का कथित रूप से समर्थन करने पर राजद्रोह के आरोप लगाये गये हैं। देहरादून के दो कॉलेजों ने घाटी के विद्यार्थियों को दाखिला नहीं देने का निर्णय लिया है। घाटी के विद्यार्थियों का कहना है कि इस घटना (पुलवामा हमले) के बाद वे भय में हैं।


यह भी पढ़ें: योगी का आरोप, कांग्रेस के कारण जम्मू कश्मीर में बढ़ा आतंकवा

जम्मू कश्मीर प्रशासन ने राज्य से बाहर रह रहे विद्यार्थियों को सोमवार को किसी भी अफवाह पर ध्यान नहीं देने और अपने अपने स्थानों पर ही रहने की सलाह दी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शनिवार को सभी राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों को परामर्श जारी कर कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाने को कहा था। उससे पहले केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सर्वदलीय बैठक को कश्मीरी विद्यार्थियों और पुलवामा हमले के बाद कथित रूप से धमकाये गये लोगों को सुरक्षा उपलब्ध कराने के लिए जरूरी कदम उठाने का आश्वासन दिया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।