राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से तीन और मौत, 236 नये मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 26, 2020   22:05
राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से तीन और मौत, 236 नये मामले

राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 170 हो गयी है। केवल जयपुर में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 81 हो गया है जबकि जोधपुर में 17 और कोटा में 16 रोगियों की मौत हो चुकी है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर मामलों में रोगी किसी न किसी अन्य गंभीर बीमारी से भी पीड़ित थे।

जयपुर।  राजस्थान में मंगलवार को कोरोना वायरस से तीन और मौत हो गई जिससे राज्य में इस संक्रमण से मरने वालो की संख्या 170 हो गई है तथा 236 नये मरीज सामने आने के साथ ही राज्य में इस घातक वायरस से अब तक के कुल संक्रमितों की संख्या 7536 हो गयी। अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार रात नौ बजे जयपुर में कोरोना वायरस के दो और राजसमंद में एक मरीज की मौत हो गई। राज्य मेंसंक्रमण के 236 नये मामले सामने आये है। उनमें जयपुर में 32, सिरोही में 27, सीकर और उदयपुर में 25-25, पाली में 23, नागौर में 13, डूंगरपुर एवं झालावाड़ में 12-12, राजसमंद में 11, कोटा में 10, भीलवाडा में नौ, बीकानेर एवं जोधपुर में सात-सात, झुंझुनू में पांच, बाडमेर-चित्तौड़गढ़ में चार-चार, अजमेर, भरतपुर, धौलपुर में दो-दो, दौसा, गंगानगर, प्रतापगढ और सवाईमाधोपुर में एक एक नये मामले सामने आए।

उल्लेखनयीय है कि राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 170 हो गयी है। केवल जयपुर में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 81 हो गया है जबकि जोधपुर में 17 और कोटा में 16 रोगियों की मौत हो चुकी है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर मामलों में रोगी किसी न किसी अन्य गंभीर बीमारी से भी पीड़ित थे। राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों में दो इतालवी नागरिकों के साथ साथ 61 वे लोग भी हैं जिन्हें ईरान से लाकर जोधपुर एवं जैसलमेर में सेना के आरोग्य केंद्रों में ठहराया गया था। राज्य में 22 मार्च से लॉकडाउन है और अनेक थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा हुआ है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।