• टीएमसी ने सुष्मिता देव को राज्यसभा के लिए किया नामित, हाल में ही छोड़ा था कांग्रेस

अंकित सिंह Sep 14, 2021 16:28

सुष्मिता देव के सहारे तृणमूल कांग्रेस से त्रिपुरा और असम में अपनी पकड़ को मजबूत करने में जुटी हुई है। कांग्रेस की पूर्व नेता सुष्मिता देव ने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पास पार्टी के भविष्य के लिए ‘‘शानदार दृष्टिकोण’’ है और उम्मीद जताई कि इसमें वह मददगार होंगी।

पश्चिम बंगाल के सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने कांग्रेस छोड़ पार्टी में शामिल हुईं सुष्मिता देव को राज्यसभा के लिए नामित किया है। टीएमसी ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी। टीएमसी ने अपने ट्वीट में लिखा कि महिलाओं को सशक्त बनाने और राजनीति में उनकी अधिकतम भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए ममता बनर्जी की दृष्टि हमारे समाज को और अधिक आगे करने में मदद करेगी। आपको बता दें कि हाल में ही चुनाव आयोग ने विभिन्न राज्यों के लिए राज्य सभा उपचुनावों की तारीखों की घोषणा की थी। पिछले महीने सुष्मिता देव ने अचानक कि कांग्रेस छोड़ दिया था। वह तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गई थीं और अब उन्हें तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने का इनाम दिया जा रहा है।

टीमएसी के भविष्य के लिए ममता के पास शानदार दृष्टिकोण है: सुष्मिता देव

सुष्मिता देव के सहारे तृणमूल कांग्रेस से त्रिपुरा और असम में अपनी पकड़ को मजबूत करने में जुटी हुई है। कांग्रेस की पूर्व नेता सुष्मिता देव ने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पास पार्टी के भविष्य के लिए ‘‘शानदार दृष्टिकोण’’ है और उम्मीद जताई कि इसमें वह मददगार होंगी। कांग्रेस की महिला शाखा की पूर्व प्रमुख टीएमसी के वरिष्ठ नेता अभिषेक बनर्जी और डेरेक ओ ब्रायन की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हो गईं थी। सुष्मिता देव ने कहा था कि वह तृणमूल कांग्रेस में ‘‘बिना किसी शर्त’’ के शामिल हुई हैं और पार्टी अध्यक्ष तथा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जो भी जिम्मेदारी उन्हें देंगी, वह उसे संभालेंगी। देव ने कहा, ‘‘राजनीति में अपने 30 वर्षों में मैंने कांग्रेस आलाकमान से कोई भी मांग नहीं की।’’ 

इसे भी पढ़ें: भवानीपुर उपचुनाव : ममता ने अचानक मस्जिद का दौरा किया, स्थानीय लोगों से बातचीत की

छोड़ा था कांग्रेस

कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद सुष्मिता देव ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। कांग्रेस सूत्रों ने बताया कि अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष की जिम्मेदारी निभा रहीं सुष्मिता ने 15 अगस्त को पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी को अपना इस्तीफा भेजा था। सुष्मिता ने अपने त्यागपत्र में पार्टी छोड़ने के कारण का कोई उल्लेख नहीं किया, हालांकि उन्होंने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने के साथ ही खुद को मिले मार्गदर्शन एवं सहयोग के लिए सोनिया गांधी और पार्टी नेतृत्व का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा, ‘‘मैं आशा करती हूं जब मैं जनसेवा के अपने जीवन में नया अध्याय शुरू करने जा रही हूं तो आपकी शुभकामनाएं मेरे साथ होंगी।’’ वह असम के सिलचर से लोकसभा सदस्य रही हैं।