बुरे सपने से परेशान होकर चोरों ने लौटाई चुराई हुई करोड़ो की मूर्ति, महंत के पास छोड़ी चिठ्ठी

Troubled
ani
रेनू तिवारी । May 16, 2022 2:47PM
उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले के सदर कोतवाली क्षेत्र के तरौंहा स्थित प्राचीन बालाजी मंदिर से नौ मई को चोरी हुई अष्ट धातु की 14 मूर्तियों को चोर रविवार को एक चिट्ठी के साथ महंत के आवास के बाहर छोड़कर चले गए। एक पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी।

चित्रकूट। कहते हैं की चोरों के अंदर दिल नहीं होता, वह लोगों की चीजों को चुराते वक्त कुछ नहीं सोचते, लेकिन आज जिस घटना के बारे में हम आपको बताएंगे उससे यह जरूर सिद्ध हो जाएगा कि दिल भले न हो लेकिन डर तो भरपूर होता है चोरों के अंदर। दरअसल उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले के एक गांव से कुछ समय पहले एक भगवान की मूर्ति चोरी हो गयी थी। जब से चोरों से उस मूर्ति को चुराया था तब से चोरों को बुरे-बुरे सपने आ रहे थे। लगातार बुरे सपने आने के डर से उन्हें वहम हो गया कि जब से यह मूर्ति चुराई है तब से ही उन्हें ऐसे बुरे  सपने आ रहे हैं ऐसे में चोरों ने भगवान के डर से चुराई हुई मूर्ति को मंदिर के मंहत के पास छोड़ आये।  

इसे भी पढ़ें: ज्ञानवापी सर्वे पर बोले UP के डिप्टी CM- सत्य को कितना भी छुपा लीजिये, सामने आ ही जाता है 

 जब से चोरों ने चुराई थी मूर्ति आ रहे थे बुरे सपने!

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले के सदर कोतवाली क्षेत्र के तरौंहा स्थित प्राचीन बालाजी मंदिर से नौ मई को चोरी हुई अष्ट धातु की 14 मूर्तियों को चोर रविवार को एक चिट्ठी के साथ महंत के आवास के बाहर छोड़कर चले गए। एक पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि चोरों ने अपनी चिट्ठी में लिखा है, “हमें रात में डरावने सपने आते हैं, इसलिए हम मूर्तियां महंत के आ‍वास के बाहर रखकर जा रहे हैं।” 

 बुरे सपने के डर से चोरों ने लौटाई करोड़ो की मूर्ति

सदर कोतवाली कर्वी के प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) राजीव कुमार सिंह ने सोमवार को कहा, “नौ मई की रात को तरौंहा स्थित प्राचीन बालाजी मंदिर से अष्ट धातु की 16 मूर्तियां चोरी हो गई थीं, जिनकी कीमत करोड़ों रुपये है। इस सिलसिले में महंत रामबालक ने अज्ञात चोरों के खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज करवाई थी।” सिंह के मुताबिक, चोरी की गई 16 में से 14 मूर्तियां रविवार को रहस्यमय तरीके से महंत रामबालक के आवास के बाहर एक बोरे से बरामद हुईं।

उन्होंने बताया कि मूर्तियों के साथ ही चोरों की लिखी एक चिट्ठी भी मिली है, जिसमें कहा गया है, “हमें रात में डरावने सपने आते हैं। हम डर की वजह से मूर्तियां वापस कर रहे हैं।” सिंह के अनुसार, फिलहाल सभी 14 मूर्तियां कोतवाली में जमा करवा ली गई हैं और मामले की जांच की जा रही है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़