ज्ञानवापी सर्वे पर बोले UP के डिप्टी CM- सत्य को कितना भी छुपा लीजिये, सामने आ ही जाता है

keshav
ANI
अभिनय आकाश । May 16, 2022 2:16PM
हिंदू पक्ष के वकील विष्णु जैन का दावा है कि कुएं के अंदर शिवलिंग मिला और वो कब्जे में लेने के लिए सिविल कोर्ट जा रहे हैं। हालांकि हिंदू पक्ष के दावे को मुस्लिम पक्ष ने खारिज कर दिया। शिवलिंग की बरामदगी के बाद हिंदू पक्ष के लोग वाराणसी कोर्ट पहुंचे और उसके बाद कोर्ट की तरफ से जहां शिवलिंग मिला है उस जगह को सील करने के आदेश डीएम और कमिश्नर को जारी किए गए हैं।

उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले में तीसरे दिन कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का सर्वे-वीडियोग्राफी कार्य संपन्न हो गया। दो घंटे 15 मिनट से अधिक समय तक सर्वे करने के बाद अदालत द्वारा गठित आयोग (कोर्ट कमीशन) ने सुबह करीब 10.15 बजे अपना काम समाप्त कर दिया। हिंदू पक्ष के वकील विष्णु जैन का दावा है कि कुएं के अंदर शिवलिंग मिला और वो कब्जे में लेने के लिए सिविल कोर्ट जा रहे हैं। हालांकि हिंदू पक्ष के दावे को मुस्लिम पक्ष ने खारिज कर दिया। शिवलिंग की बरामदगी के बाद हिंदू पक्ष के लोग वाराणसी कोर्ट पहुंचे और उसके बाद कोर्ट की तरफ से जहां शिवलिंग मिला है उस जगह को सील करने के आदेश डीएम और कमिश्नर को जारी किए गए हैं। वहीं अब पूरे मामले पर उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि सत्य को कितना भी छुपा लीजिये, सामने आ ही जाता है। 

इसे भी पढ़ें: ज्ञानवापी मस्जिद, ताजमहल, कृष्ण जन्मभूमि का सच बाहर आना चाहिए : आरएसएस नेता

बाबा के प्रकटीकरण की बात कर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने इसको पुष्ट कर दिया है। केशव प्रसाद मौर्य ने ट़्वीट कर बाबा के प्रकट होने की बात कही है। उन्होंने ट्वीट में लिखा कि बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर ज्ञानवापी में बाबा महादेव के प्रकटीकरण ने देश की सनातन हिंदू परंपरा को एक पौराणिक संदेश दिया है। डिप्टी सीएम के इस बयान ने ज्ञानवापी पर चल रही बहस को एक नया रूप दे दिया है। इसके साथ ही एक अन्य ट्वीट में मौर्य ने लिखा कि "सत्य" को आप कितना भी छुपा लीजिये लेकिन एक दिन सामने आ ही जाता है क्योंकि "सत्य ही शिव" है। बाबा की जय, हर हर महादेव।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़