हलाली नदी में डूबने से हुई 2 मासूम बच्चों की मौत, ज़िंदा करने के लिए शवों को नमक के ढेर पर लेटाया

हलाली नदी में डूबने से हुई 2 मासूम बच्चों की मौत, ज़िंदा करने के लिए शवों को नमक के ढेर पर लेटाया

ईंटखेड़ी गांव निवासी पर्व अहिरवार और शरद माली की मौत हुई है। जबकि युवराज को बचा लिया गया है।

भोपाल। राजधानी भोपाल के ईंटखेड़ी इलाके में हलाली नदी में डूबने से दो बच्चों की मौत हो गई। वहीं एक बच्चे को बचा लिया गया है। ऐसा बताया गया कि बच्चे नदी के किनारे पर खड़े होकर पत्थर उछाल कर खेल रहे थे। इसी बीच एक बच्चे का पैर फिसल गया। वह नदी में गिरने से बचने के लिए पास में खड़े अपने दो साथियों के हाथ पकड़ा और उसी समय तीनों नदी में गिर गए।

इसे भी पढ़ें:इंदौर के 9 नगर निगम अधिकारियों पर हुई FIR दर्ज, नगर आयुक्त ने दी जानकारी 

आपको बता दें ईंटखेड़ी गांव निवासी पर्व अहिरवार और शरद माली की मौत हुई है। जबकि युवराज को बचा लिया गया है। इस मुद्दे को लेकर टीआई चतुर्वेदी ने कहा कि मंगलवार को तीनों बच्चे घर से खाना खाने के बाद परिजनों से खेलने की बात कहकर घर से निकले।

जानकारी के मुताबिक फिर खेलते-खेलते वह हलाली नदी के सैनी के बाड़ा के पास पहुंच गए। दोपहर को बच्चे नदी के किनारे खड़े होकर पत्थर उछालने का खेल खेल रहे थे। इस दौरान पैर फिसलने से तीनों नदी में जा गिरे। जिसके बाद 2 बच्चों को मौत हो गई है।

इसे भी पढ़ें:राज्य सूचना आयोग की बड़ी कार्रवाई, प्रदेश में पहली बार CMHO के खिलाफ जारी किया गिरफ्तारी वारंट 

इसके बाद मासूमों को जिंदा करने के लिए अस्पताल में अंधविश्वास का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि 2 मासूमों को जिंदा करने के लिए नमक के ढेर पर लेटाया गया है।

दरअसल परिजनों को किसी ने बताया कि पानी में डूबने से अगर किसी की मौत हो जाती है तो, नमक पर लेटाने से जिंदा हो जाता है। और इसी अंधविश्वास के शिकार परिजनों ने दोनों मृतक बच्चों को नमक पर लेटाया गया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...