केन्द्रीय मंत्री को उम्मीद, 2024 तक भारत का हिस्सा बन जाएगा पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर

Kapil Patil
महाराष्ट्र के ठाणे जिले के कल्याण शहर में शनिवार रात आयोजित एक कार्यक्रम में पंचायती राज मामलों के राज्य मंत्री पाटिल ने यह भी कहा कि मोदी आलू-प्याज का दाम कम करने के लिए प्रधानमंत्री नहीं बने हैं।
ठाणे (महाराष्ट्र)। केन्द्रीय मंत्री कपिल पाटिल ने कहा कि संभवत:2024 तक पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर (पीओके) भारत का हिस्सा बन जाएगा और देश के लिए विभिन्न ठोस कदम उठाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के नेतृत्व की तारीफ की। महाराष्ट्र के ठाणे जिले के कल्याण शहर में शनिवार रात आयोजित एक कार्यक्रम में पंचायती राज मामलों के राज्य मंत्री पाटिल ने यह भी कहा कि मोदी आलू-प्याज का दाम कम करने के लिए प्रधानमंत्री नहीं बने हैं। 

इसे भी पढ़ें: कश्मीर समेत सभी लंबित मुद्दे बातचीत व कूटनीति से हल होने चाहिए: इमरान खान

उन्होंने यह भी कहा कि लोग प्याज जैसी चीजों का दाम बढ़ने पर तो शिकायत करते हैं, लेकिन पिज्जा और मटन (मांस) खरीदने से नहीं हिचकिचाते। ठाणे जिले की भिवंडी सीट से सांसद पाटिल ने साथ ही कहा कि जरूरी चीजों के मूल्य में वृद्धि का कोई समर्थन नहीं करेगा। एक व्याख्यान में उन्होंने कहा, ‘‘सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ही देश के लिए कुछ उपलब्धियां हासिल कर सकते हैं। प्रधानमंत्री मोदी को देश का नेतृत्व करते रहना चाहिए क्योंकि उन्होंने सीएए (संशोधित नागरिकता कानून लानू में), संविधान के अनुच्छेद 370 और 35ए आदि के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने का काम किया है। मुझे लगता है, संभवत: 2024 तक पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर (पीओके) भारत का हिस्सा बन जाएगा।’’ 

इसे भी पढ़ें: कश्मीर समेत सभी लंबित मुद्दे बातचीत, कूटनीति से हल होने चाहिए: इमरान खान

पाटिल ने कहा कि लोग 700 रुपये का मांस, 500-600 रुपये का पिज्जा खरीद सकते हैं ‘‘लेकिन 10 रुपये का प्याज और 40 रुपये का टमाटर हमारे लिए महंगा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘कीमतों में वृद्धि का कोई समर्थन नहीं करेगा। लेकिन नरेंद्र मोदी आलू-प्याज का दाम कम करने के लिए प्रधानमंत्री नहीं बने हैं। अगर आप इन चीजों का मूल्य बढ़ने के पीछे का कारण समझेंगे तो प्रधामंत्री को दोष नहीं देंगे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़